Baloo Retwa By Pratap Gopendra (Hardcover)

520.00650.00

In stock

Wishlist

Baloo Retwa By Pratap Gopendra – Hardcover

बालू रेतवा हिन्दी के उन विरल उपन्यासों में एक है जिनकी सबसे बड़ी खूबी आंचलिकता है। इस तरह यह उपन्यास इस बात का एक और प्रमाण है कि रेणु के ‘मैला आँचल’ से हिन्दी में आंचलिकता की जो धारा शुरू हुई थी वह सूखी नहीं है बल्कि समय-समय ऐसे कथाकार नमूदार हो जाते हैं जो किसी नये इलाके में इस धारा को मोड़ देते हैं। प्रताप गोपेन्द्र ऐसे ही एक महत्त्वपूर्ण कथाकार हैं। ‘बालू रेतवा’ की कथाभूमि हिन्दी प्रदेश की भोजपुरी पट्टी है इसलिए स्वाभाविक ही इस उपन्यास की भाषा भोजपुरी की बोली-बानी में रची-पगी है; उसके मुहावरों, लोकोक्तियों, गीतों और भंगिमाओं से भरपूर। इस उपन्यास में पात्रों के संवाद, परिवेश, रहन-सहन, रीति- रिवाज और सुख-दुख का वर्णन आदि सब कुछ इतना जीवन्त है कि उनके कथाकार का लोहा मानना पड़ता है।

SKU: Baloo Retwan - hardcover
Category:
Tags:, , , ,
ISBN

9788119127993

Author

Pratap Gopendra

Pages

208

Binding

Hardcover

Language

Hindi

Publication date

27 September 2023

Publisher

Setu Prakashan Samuh

Customer Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Baloo Retwa By Pratap Gopendra (Hardcover)”

You may also like…

  • Setu Samagra : Kavita, Ashok Vajpeyi (3 Volumes) – Ashok Vajpeyi

    Setu Samagra : Kavita, Ashok Vajpeyi (3 Volumes) – Ashok Vajpeyi

    1,190.001,400.00
  • Do Gaz Ki Duri By Mamta Kalia

    दो गज़ की दूरी’ वरिष्ठ कहानीकार ममता कालिया का नवीन कहानी-संग्रह है।इन कहानियों की विशेषता इनकी सहजता और सरलता है। ये अपनी संवेदनात्मक संरचना में से होते-होते दृश्यों, कथनों, अतिपरिचित मनोभावों के सहारे आगे बढ़ती हैं। ममता कालिया व्यंग्य नहीं, विडम्बना के सहारे आज के जीवन की अर्थहीनता को तलाशती हैं।

    159.00199.00
  • Shuddhipatra – Neelakshi Singh

    Shuddhipatra – Neelakshi Singh

    शुद्धिपत्र नीलाक्षी सिंह का ऐसा उपन्यास है जो वर्तमान समय में मनुष्य की भावनाओं-संवेदनाओं की खुले बाजार में मार्केटिंग करने वाली प्रवृत्तियों पर प्रश्न खड़े करती है। जो विडम्बना और संत्रास मानव जीवन में उपस्थित हो रहा है-वही उपन्यास की आयतन है।

    293.00325.00
  • Gho Gho Rani Kitna Pani By Rashmi Bhardwaj

    Gho Gho Rani Kitna Pani By Rashmi Bhardwaj

    घो घो रानी कितना पानी रश्मि भारद्वाज का तीसरा कविता-संग्रह है। इनकी कविताएँ समाज के नये प्रसंग में, विशेष तौर से अस्मिता के अन्याय संदर्भों में, जीवन की अर्थवत्ता की तलाश एक जरूरी और मुश्किल कार्य है।

    242.00285.00