Kisse Cycle ke By Seeraj Saxena

699.00

Kisse Cycle ke By Seeraj Saxena
’क़िस्से साइकिल के’ – सीरज सक्सेना

‘किस्से साइकिल के’ : साइकिल हमें एक जिम्मेदार नागरिक बनाती है

In stock

Wishlist

About the Author:

कलाकार, गद्यकार, साइक्लिस्ट, कवि। जन्म : 30 जनवरी 1974, ‘महू (मध्य प्रदेश) शिक्षा : शासकीय बाल विनय मन्दिर, इन्दौर और शासकीय ललित कला संस्थान, इन्दौर से। चित्र, सिरेमिक, काष्ठ, टेक्सटाइल, धातु, छापा-कला आदि कला माध्यमों में गत 23 वर्षों से सक्रिय और देश-विदेश में अब तक 27 एकल और 150 से अधिक सामूहिक कला-प्रदर्शनियाँ आयोजित। विश्व के अनेक महत्त्वपूर्ण निजी कला-संग्रहों और कला-संग्रहालयों में चित्र एवं सिरेमिक संस्थापन संग्रहित । वाना वेलनेस रिट्रीट देहरादून, राष्ट्रीय गाँधी संग्रहालय नयी दिल्ली, विदेश मन्त्रालय भारत और ऑल इण्डिया रेडियो दिल्ली, प्रेस ट्रस्ट ऑफ़ इण्डिया, दिल्ली के अलावा मार्क रोथको कला केन्द्र लातविया, इंग सिरेमिक कला संग्रहालय ताईवान, ओरेंस्को कला-केन्द्र पोलैण्ड, चाँगचुंग शिल्प कला-केन्द्र चीन, ओत्तो निमेयार होस्ताइन “संग्रहालय जर्मनी, क्राबी कला संग्रहालय थाईलैण्ड आदि कला केन्द्रों में बतौर अतिथि आमन्त्रित। ‘आकाश एक ताल है’ नामक लेख-संग्रह, कवि-सम्पादक पीयूष दईया के साथ पुस्तकाकार संवाद ‘सिमिट सिमिट जल’ और कवि-कलालोचक राकेश श्रीमाल के साथ संवाद ‘मिट्टी की तरह मिट्टी’ व ‘कला की जगहें’ नामक यात्रा-वृत्त, ’क़िस्से साइकिल के’ प्रकाशित।

SKU: kisse-cycle-ke-by-seeraj-saxena
Categories:,
ISBN

9789391277000

Author

Seeraj Saxena

Binding

Paperback

Pages

256

Publisher

Setu Prakashan Samuh

Imprint

Setu Prakashan

Language

Hindi

Customer Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Kisse Cycle ke By Seeraj Saxena”