Kit Kit By Anu Shakti Singh

212.00249.00

Kit Kit By Anu Shakti Singh
कित कित – अणुशक्ति सिंह

मन की नदियों, हवाओं, चुप्पियों, कथाओं को रचना
में रूप देने के लिए रियाज़ के साथ आत्मसंयम व
कलात्मक अभिव्यक्ति का सन्तुलन वांछित होता है,
तब एक रचना अपना प्रसव ग्रहण करने को उन्मुख
होती है। जो कलाकार इस गहरे बोध से परिचित होते हैं
वे गति से अधिक लय को भाषा में समाने का इन्तज़ार
करते उसे अपना रूप लेने देते हैं। लय, जो अपनी
लयहीनता में बेहद गहरे और अकथनीय अनुभव ग्रहण
करती है उसे भाषा में उतार पाना ही कलाकार की
असल सिद्धि है। अणु शक्ति ने अपने इस नॉवल में
टीस की वह शहतीर उतरने दी है। यह उनके कथाकार
की सार्थकता है कि नॉवल में तीन पात्रों की घुलनशील
नियति के भीतर की कशमकश को उन्होंने दृश्य बन
कहन होने दिया है। स्त्री, पर-स्त्री, पुरुष, पर-पुरुष,
इनको हर बार कला में अपना बीहड़ जीते व्यक्त करने
का प्रयास होता रहा। हर बार रचना में कुछ अनकही
अनसुनी कतरनें छितराती रही हैं। वहाँ प्रेम और
अकेलापन अपने रसायन में कभी उमड़ते हैं कभी
घुमड़कर अपनी ठण्ड में किसी अन्त में चुप समा जाते
हैं। अणु शक्ति इन मन:स्थितियों को बेहद कुशलता से
भाषा में उतरने देती हैं व अपनी पकड़ को भी अदृश्य
रखने में निष्णात साबित हुई हैं।

Buy This Book Instantly thru RazorPay
(15% + 5% Extra Discount Included)

Kindle E-Book Also Available
Available on Amazon Kindle

In stock

You may also like…

  • Pagdandi By Shraddha Thavait

    पगडण्डी – श्रद्धा थवाईत

    इधर कुछ बरसों से हिन्दी में लिखी जा रही अधिकांश कहानियाँ दो तरह की अति का शिकार हैं। एक श्रेणी उन कहानियों की है जो हद दर्जे की अमूर्त हैं, किसी कथाभूमि के बगैर हवा में तिरती हुई । निराकार । दूसरी श्रेणी उन कहानियों की है जो ठोस कथाभूमि पर खड़ी तो रहती हैं पर इतनी ठस होती हैं कि उनमें प्रतीक, व्यंजना और अन्यार्थ की गुंजाइश नहीं होती । खुशी की बात है कि श्रद्धा थवाईत की कहानियाँ इन दोनों अतियों या कमजोरियों से मुक्त हैं। उनका यह कहानी संग्रह पगडण्डी इसका साक्ष्य है। इस संग्रह की कहानियों में जहाँ अन्तर्वस्तु का विस्तार है वहीं भाषा और शिल्प में एक सहज पारदर्शिता है जो कहानियों को काफी पठनीय बनाती है और पाठक को बरबस बाँधे रखती है।

    254.00299.00
  • Fakira By Anna Bhau Sathe

    फकीरा’ उपन्यास अण्णा भाऊ साठे का मास्टरपीस उपन्यास माना जाता है। यह 1959 में प्रकाशित हुआ तथा इसे 1961 में राज्य शासन का सर्वोत्कृष्ट उपन्यास पुरस्कार प्रदान किया गया। इस उपन्यास पर फ़िल्म भी बनी। ‘फकीरा’ एक ऐसे नायक पर केन्द्रित उपन्यास है, जो अपने ग्राम-समाज को भुखमरी से बचाता है, अन्धविश्वास और रूढ़िवाद से मुक्ति का पुरजोर प्रयत्न करता है तथा ब्रिटिश शासन के विरुद्ध विद्रोह करता है। एक दलित जाति के नायक का बहुत खुली मानवीय दृष्टि रखना, ब्रिटिश शासन द्वारा थोपे गये अपराधी जाति के ठप्पे से जुड़ी तमाम यन्त्रणाओं का पुरजोर विरोध करना, अपने आसपास के लोगों को अन्धविश्वास के जाल से निकालने की जद्दोजहद करना तथा बहुत साहस और निर्भयता के साथ अनेक प्रतिमान स्थापित करना ‘फकीरा’ की विशेषता है। उपन्यास का नायक ‘फकीरा’ एक नायक मात्र नहीं है, विषमतामूलक समाज के प्रति असहमति का बुलन्द हस्ताक्षर है।

    Buy Instantly


    Kindle E-Book Also Available
    Available on Amazon Kindle

    254.00299.00
  • Shunya ki Tauheen By Ashar Najmi

    शून्य की तौहीन एक ऐसा उपन्यास है जो भारतीय उपमहाद्वीप की सबसे विकट समस्या से हमें रूबरू कराता है। अशअर नज्मी के इस उपन्यास की केन्द्रीय चिन्ता यह है कि व्यक्ति स्वातंत्र्य को कैसे सुनिश्चित किया और अक्षुण्ण रखा जाए, जिस पर नित हमले हो रहे हैं। ऐसे हमलों से उपजा आतंक पूरे उपन्यास में तारी रहता है। यों तो सत्ताधीशों, पुलिस और नौकरशाही तथा धर्मसत्ता और समाज के सामन्ती ढाँचे आदि की तरफ से नागरिक आजादी को कुचलने की कोशिशें बराबर होती रही हैं, लेकिन पिछले कुछ दशकों से यह दमन सबसे ज्यादा धर्म के नाम पर हुआ है। इसका सबसे व्यवस्थित और चरम रूप पाकिस्तान के ईशनिन्दा विरोधी कानून में दीखता है। मज़हबी भावनाएँ उकसाकर बनाये गये

    196.00230.00
  • Baraf Mahal Translated by Neelakshi Singh

     

    वह एक सम्मोहक महल था। उसमें प्रवेश करने का रास्ता जल्द खोज लेना था। वह भूलभुलैया, उत्कण्ठा जगाने वाले रास्तों और विशाल दरवाजों से भरा होने वाला था और उसे उसमें दाखिले का रास्ता खोजकर ही दम लेना था। यह कितनी अजीब बात थी कि उसके सामने आते ही उन्न बाकी का सबकुछ बिल्कुल ही बिसरा चुकी थी। उस महल के भीतर समा जाने की इच्छा के सिवा हर दूसरी चीज का अस्तित्व उसके लिए समाप्त हो चुका था। आह। पर क्या वह सब इतना आसान था ! कितनी तो जगहें थीं, जो दूर से अब खुलीं कि तब खुलीं दिखती थीं, पर जैसे ही उन्न वहाँ पहुँचती, वे धोखा देने पर उतर आतीं। पर वह भी कहाँ हार मानने वाली थी !

    Buy This Book with 1 Click Via RazorPay (15% + 5% discount Included)

    238.00280.00