Meri Yatna Ke Ant Main Ek Darwaza Tha – Rashmi Bhardwaj

298.00350.00

विश्व की बारह स्त्री कवियों द्वारा लिखी गयी चुनिन्दा कविताओं के अनुवाद का प्रस्तुत संचयन हिन्दी में अपनी तरह का पहला संग्रह है। यहाँ प्रत्येक कवि अपने काव्य की चारित्रिक विशेषताओं के साथ उपस्थित है, और समग्रतः स्त्री-विश्व का ऐसा दृश्यालेख भी, जो मनुष्यत्व से अभिन्न व जीवनमय है।

रश्मि भारद्वाज ने पहले कवि और उपन्यासकार के रूप में अपनी सार्थक व सफल पहचान बनायी और अब इस संचयन से वे एक अनुपम अनुवादक की तरह भी जानी जाएँगी; उन्होंने अनूदित कविताओं को हिन्दी में नया जीवन प्रदान किया है।
– पीयूष दईया
Buy This Book with 1 Click Via RazorPay (15% + 5% discount Included)

In stock

Wishlist

Meri Yatna Ke Ant Main Ek Darwaza Tha
(Translated Poems) by Rashmi Bhardwaj

 

SKU: Meri Yatna Ke Ant.. -Paperback
Category:
Author

Rashmi Bhardwaj

Language

Hindi

ISBN

9788119127894

Binding

Paperback

Pages

232

Publisher

Setu Prakashan Samuh

Publication date

10-02-2024

Customer Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Meri Yatna Ke Ant Main Ek Darwaza Tha – Rashmi Bhardwaj”

You may also like…

  • Wah Saal Bayalis Tha By Rashmi Bhardwaj (PaperBack)

    वह साल बयालीस था’ एक तहदार उपन्यास है जिसमें रूप और रूद्र के दारुण प्रेम के अलावा भी बहुत कुछ है। उपन्यास सन् बयालीस के कालखण्ड को सजीव करता है जहाँ आज़ादी के संघर्ष के नेपथ्य के दो प्रेमियों की धड़कनें भी शामिल हैं। आज़ादी की तड़प, साम्प्रदायिक विभाजन, प्रेम के बदलते स्वरूप और युवा पीढ़ी के लिए उसके बदलते मयाने।

    249.00
  • Gho Gho Rani Kitna Pani By Rashmi Bhardwaj

    Gho Gho Rani Kitna Pani By Rashmi Bhardwaj

    घो घो रानी कितना पानी रश्मि भारद्वाज का तीसरा कविता-संग्रह है। इनकी कविताएँ समाज के नये प्रसंग में, विशेष तौर से अस्मिता के अन्याय संदर्भों में, जीवन की अर्थवत्ता की तलाश एक जरूरी और मुश्किल कार्य है।

    285.00
  • Maine Apni Maa Ko Janm Diya Hai -Rashmi Bhardwaj

    Maine Apni Maa Ko Janm Diya Hai – Rashmi Bhardwaj
    मैंने अपनी मां को जन्म दिया है – रश्मि भारद्वाज

    जानी-मानी लेखिका रश्मि भारद्वाज के कविता संग्रह ‘मैंने अपनी मां को जन्म दिया है’ में जीवन के विविध पक्षों की छाप है। उनकी कविताएं दुख, मुक्ति और स्वाभिमान के मुद्दों के अतिरिक्त विस्थापन, पर्यावरण और सहकारिता के वृहत्तर प्रश्नों से भी टकराती हैं।

    238.00280.00
  • Maine Apni Maa Ko Janm Diya Hai -Rashmi Bhardwaj (Paperback)

    Maine Apni Maa Ko Janm Diya Hai – Rashmi Bhardwaj (Paperback)
    मैंने अपनी मां को जन्म दिया है – रश्मि भारद्वाज

    जानी-मानी लेखिका रश्मि भारद्वाज के कविता संग्रह ‘मैंने अपनी मां को जन्म दिया है’ में जीवन के विविध पक्षों की छाप है। उनकी कविताएं दुख, मुक्ति और स्वाभिमान के मुद्दों के अतिरिक्त विस्थापन, पर्यावरण और सहकारिता के वृहत्तर प्रश्नों से भी टकराती हैं।

    111.00130.00