Pahli Aurat : Rana Liyaqat Begam By Rajgopal Singh Verma

297.00349.00

Pahli Aurat : Rana Liyaqat Begam By Rajgopal Singh Verma

हमारी स्मृतियों में जो मुस्लिम लीग के कद्दावर नेता और फिर पाकिस्तान के पहले प्रधानमन्त्री बने लियाक़त अली ख़ान कइ हमनवा बन राना बेगम के नाम से जानी गई।

In stock

Wishlist

हमारी स्मृतियों में जो मुस्लिम लीग के कद्दावर नेता और फिर पाकिस्तान के पहले प्रधानमन्त्री बने लियाक़त अली ख़ान कइ हमनवा बन राना बेगम के नाम से जानी गई। राजगोपाल सिंह वर्मा कइ यह किताब उन्हीं के किरदार कइ एक रोचक कहानी है।

About the Author:

पत्रकारिता तथा इतिहास में स्नातकोत्तर। केन्द्र एवं उत्तर प्रदेश सरकार में विभिन्न मंत्रालयों में प्रकाशन, प्रचार और जनसम्पर्क के क्षेत्र में जिम्मेदार पदों पर कार्य। कई वर्षों तक उत्तर प्रदेश सरकार की साहित्यिक पत्रिका उत्तर प्रदेश का स्वतन्त्र सम्पादन।

SKU: Pahli Aurat : Rana Liyaqat Begam By Rajgopal Singh Verma
Category:
ISBN

9788196103439

Author

Rajgopal Singh Verma

Binding

Paperback

Pages

272

Publication date

25-02-2023

Imprint

Setu Prakashan

Language

Hindi

Customer Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Pahli Aurat : Rana Liyaqat Begam By Rajgopal Singh Verma”

You may also like…

  • Prem Aur Kranti : Faiz Ahmad Faiz by Ali Madeeh Hashmi

    Prem Aur Kranti : Faiz Ahmad Faiz by Ali Madeeh Hashmi

    प्रेम और क्रांति फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ – डॉ. अली मदीह हाशमी

    फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ सरकारों की तानाशाही के ख़िलाफ़ अब प्रतीक बन चुके हैं, जहाँ-जहाँ भी ज़ुल्म व सितम होते हैं उनकी कविताएँ पोस्टर और नारों की शक्ल में लहराने लगती हैं. उनके जीवन के प्रति जिज्ञासा का भाव स्वाभाविक है. उनके नाती अली मदीह हाशमी ने उनकी जीवनी अंग्रेजी में लिखी है जिसका हिंदी अनुवाद सेतु प्रकाशन से आया है. इसे फ़ैज़ की अधिकृत जीवनी कहा जा रहा है.

    450.00
  • Renu : Ek Jeewani – Bharat Yayawar

    Renu : Ek Jeewani – Bharat Yayawar

    रेणु एक जीवनी – भारत यायावर

    भारत यायावर की ख्याति फणीश्वरनाथ रेणु के विशेषज्ञ के रूप में सुस्थापित है। उन्होंने जो जीवनी लिखने का उद्यम किया है, यह उसका पहला भाग है।

    599.00
  • Kaal Ke Kapal Par Hastakshar : Harishankar Parsai Ki Pramanik Jeevani

    इस जीवनी में परसाई के अलक्षित जीवन प्रसंगों को पढ़ना रोमांचकारी है। इसमें लक्षित परसाई से कहीं अधिक अलक्षित परसाई हैं जिन्हें जाने बिना वह चरितव्य समझ नहीं आएगा, जो परसाई के मनुष्य और लेखक को एपिकल बनाता है। जीवनी जीवन चरित है। ये गद्य और पद्य दोनों में लिखी गयी हैं। संस्कृत, प्राकृत और अपभ्रंश में जीवनी

    532.00625.00
  • Gudgudi : Ek Samajik Karykarta Ki Jiwangatha – Chandiprasad Bhatt (Paperback)

    Gudgudi : Ek Samajik Karykarta Ki Jiwangatha – Chandiprasad Bhatt – Paperback
    गुदगुदी: एक सामाजिक कार्यकर्ता की जीवनगाथा

    509.00599.00