Perumal Murugan Chotu Aur Uski Duniya BY Perumal Murugan

319.00375.00

छोटू जानता है कि साँप कटाई किये गये ख़ाली खेतों में नहीं आते हैं। वहाँ उनको खाने के लिए क्या मिलेगा ? वे तो पोखर की शीतलता में विश्राम करना पसन्द करते हैं। उसे तो कीड़े-मकोड़ों का भी भय नहीं लगता। वह तो घोर अँधेरे में भी किसी भी चीज़ के हिलने-डुलने का अन्दाज़ा लगा सकता है और फिर करट्टूर पहाड़ी से आते हुए प्रकाश की झिलमिलाहट उसके मन को शान्त करने के लिए पर्याप्त है, वह अनजान जीवों को दूर रखने के लिए काफ़ी है। किसी कारणवश पहाड़ी का दीपक यदि नहीं जलाया जाता है, तो उसे लगता है कि उसके साथ धोखा किया गया है और उसे परित्यक्त कर दिया गया है।

In stock

Wishlist
SKU: chutu-aur-uski-duniya-PB
Category:
Author

Perumal Murugan

Binding

Paperback

Language

Hindi

ISBN

9788119899173

Publication date

10-02-2024

Publisher

Setu Prakashan Samuh

Pages

416

Customer Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Perumal Murugan Chotu Aur Uski Duniya BY Perumal Murugan”