Menu Close

Shop

Rajgopal Singh Verma Books Combo

1,752.00

Akhiri Mughal Badshah Ka Court-Marshal      Rs.399.00

Itihas Purush : Bakht Khan                               Rs.280.00

Auopaniveshik Bharat Ki Jununi Mahilayen    Rs.399.00

Chinhat 1857 : Sangharsh Ki Gourav Gatha   Rs.325.00

Pahli Aurat : Rana Liyaqat Begam                   Rs.349.00

Total Rs.1752
 Offer Price Rs.1226/-
(Free Shipping)

 

 

In stock

Wishlist
SKU: Rajgopal Singh Verma 5 Books Combo Category:

Description

Additional information

Binding

Paperback

Language

Hindi

Publisher

Setu Prakashan Samuh

Author

Rajgopal Singh Verma

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Rajgopal Singh Verma Books Combo”

You may also like…

  • Itihas Purush : Bakht Khan by Rajgopal Singh VermaItihas Purush : Bakht Khan by Rajgopal Singh Verma

    Original price was: ₹280.00.Current price is: ₹238.00.

    चूँकि यह एक स्वतःस्फूर्त आन्दोलन था, इसलिए 1857 की इस क्रान्ति का कोई एक सर्वमान्य नेता न था, न ही सेना की कमाण्ड किसी एक उच्च अधिकारी के हाथ में थी। हर बागी एक नेता था और हर व्यक्ति आज़ादी के इस जुनून को दिल में सँजोये हुए था। ऐसे में बरेली स्थित सैन्य घुड़सवार-आर्टिलरी ब्रिगेड के एक स्थानीय अधिकारी मुहम्मद बख़्त ख़ान का अपने समर्थकों के साथ दिल्ली पहुँचना, बादशाह द्वारा उसे फिरंगियों के विरुद्ध सेना का नेतृत्व करने के लिए सर्वोच्च ओहदा देना एक बहुत बड़ा कदम और सम्मान था। बादशाह ने उसे सैन्य बलों का कमाण्डर-इन-चीफ बना दिया था। अफरातफरी और अराजकता के उस माहौल में इस जाँबाज़ सैन्य अधिकारी ने अपनी सेना में अनुशासन बनाया, व्यवस्थाओं को दुरुस्त किया, प्रशासनिक मशीनरी को सक्रिय किया और सेना का संचालन तथा शासन चलाने के लिए आवश्यक धनराशि की व्यवस्था की। उसने अव्यवस्था फैलाने और लूटपाट करने वालों को चेतावनी दी तथा न मानने पर उनके विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की। बख़्त ख़ान ने हिन्दू-मुस्लिम सौहार्द की स्थितियों

    को बनाये रखने में भी अपना योगदान दिया, तथा बादशाह के खोये हुए गौरव को एक बार फिर से स्थापित करने के लिए जरूरी काम किये।
  • Auopaniveshik Bharat Ki Jununi Mahilayen By Rajgopal Singh VermaAuopaniveshik Bharat Ki Jununi Mahilayen By Rajgopal Singh Verma

    Original price was: ₹399.00.Current price is: ₹339.00.

    Auopaniveshik Bharat Ki Jununi Mahilayen By Rajgopal Singh Verma औपनिवेशिक भारत की जुनूनी महिलाएँ:- देश के हज़ारों वर्षों के गौरवशाली इतिहास के बाद भी यदि स्त्रियों के लिए तमाम क्षेत्रों में दख़ल, योगदान या रुचि लेना निषिद्ध, वर्जित और प्रतिबन्धित है, तो यह पीढ़ी दर पीढ़ी और वंशानुगत चलते षड्यन्त्रकारी पूर्वाग्रहों के अलावा और क्या […]

  • Chinhat 1857 : Sangharsh Ki Gourav Gatha – Rajgopal Singh VermaChinhat 1857 : Sangharsh Ki Gourav Gatha – Rajgopal Singh Verma

    Original price was: ₹325.00.Current price is: ₹276.00.

    Chinhat 1857 : Sangharsh Ki Gourav Gatha – Rajgopal Singh Verma

  • Akhiri Mughal Badshah Ka Court-Marshal By Rajgopal Singh VermaAkhiri Mughal Badshah Ka Court-Marshal By Rajgopal Singh Verma

    Original price was: ₹399.00.Current price is: ₹339.00.

    इस पुस्तक में बहादुर शाह ज़फ़र के सम्प्रभु स्तर, भले ही वह नाममात्र का हो, की अन्तरराष्ट्रीय, राष्ट्रीय और विदेशी कानूनों के परिप्रेक्ष्य में विवेचना की गयी है। अन्य उन कारकों का भी विश्लेषण किया गया है जिससे साबित होता है कि इस भारतीय बादशाह के विरुद्ध फिरंगी शासकों ने मनमानी, गैरकानूनी तथा अवैधानिक कार्यवाहियाँ की थीं, जिसको कोई भी सभ्य विश्व समुदाय सहमति नहीं दे सकता। साथ ही बहादुर शाह ज़फ़र पर चलाये गये इस अवैधानिक मुकदमे – कोर्ट- मार्शल की सरकारी कार्यवाही का पूरा विवरण भी परिशिष्ट के रूप में उपलब्ध कराया गया है। इस कार्यवाही को पढ़ने, सरकारी पक्ष, साक्ष्यों, अभिलेखों और प्रक्रियाओं के अवलोकन से ही ब्रिटिश प्रशासन की नीयत और मंशा आसानी से समझ आ जाती है। उम्मीद है कि 1857 के संघर्ष और पहली व्यापक क्रान्ति के सन्दर्भ में महत्त्वपूर्ण और जरूरी विश्लेषण के इस दस्तावेज को पाठक गम्भीरता से लेंगे।

    – भूमिका से
    Kindle E-Book Also Available
    Available on Amazon Kindle
  • Pahli Aurat : Rana Liyaqat Begam By Rajgopal Singh Verma

    Original price was: ₹349.00.Current price is: ₹297.00.

    Pahli Aurat : Rana Liyaqat Begam By Rajgopal Singh Verma

    हमारी स्मृतियों में जो मुस्लिम लीग के कद्दावर नेता और फिर पाकिस्तान के पहले प्रधानमन्त्री बने लियाक़त अली ख़ान कइ हमनवा बन राना बेगम के नाम से जानी गई।

Jinna - Hindi