Tasveeron se ja chuke chehre – Aniruddh umat

140.00

Tasveeron se ja chuke chehre – Aniruddh umat
तस्वीरों से जा चुके चेहरे – अनिरुद्ध उमट

Only 1 left in stock

Wishlist

About the Author:

28 अगस्त, 1964 को बीकानेर (राजस्थान) में जन्म। उपन्यास ‘अँधेरी खिड़कियाँ’ 1998, ‘पीठ पीछे का आँगन’ 2000 एवं ‘नींद नहीं जाग नहीं’ 2020 में, कविता संग्रह ‘कह गया जो आता हूँ अभी’ 2005 एवं ‘तस्वीरों से जा चुके चेहरे’ 2015 में प्रकाशित। कहानी संग्रह ‘आहटों के सपने’ 2008, निबन्ध संग्रह ‘अन्य का अभिज्ञान’ का 2012 में प्रकाशन। राजस्थानी भाषा के कवि वासु आचार्य के साहित्य अकादेमी द्वारा पुरस्कृत कविता संग्रह ‘सीर रो घर’ का हिंदी अनुवाद केंद्रीय साहित्य अकादेमी, दिल्ली द्वारा प्रकाशित। राजस्थान साहित्य अकादेमी, उदयपुर द्वारा उपन्यास ‘अँधेरी खिड़कियाँ’ को ‘रांगेय राघव स्मृति सम्मान’। भारत सरकार के संस्कृति विभाग की ‘जूनियर फेलोशिप’। कृष्ण बलदेव वैद फेलोशिप। माजीसा की बाड़ी, राजकीय मुद्रणालय के समीप, बीकानेर 334001

ISBN

9789380441344

Author

Aniruddh umat

Binding

Hardcover

Pages

96

Publisher

Setu Prakashan Samuh

Imprint

Vagdevi

Language

Hindi

Customer Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Tasveeron se ja chuke chehre – Aniruddh umat”