WAH HANSI BAHUT KUCH KEHTI THI – Rajesh Joshi (Hardcover)

333.00370.00

Wah Hansi Bahut Kuch Kehti Thi – Rajesh Joshi

मुझे लगता है कि जिस सृजनात्मक साहित्य, कला और संगीत को बाजार कमोडिटी में तब्दील नहीं कर पाता वह उससे डरता हैं। वह उसके खिलाफ तरह-तरह के प्रपंच रखता है। बाजार का यह डर दिनोदिन बढ़ रहा है।

In stock