Menu Close

Shop

Sale!

Yaar Mera Haj Kara De – Rajindra Arora

Original price was: ₹250.00.Current price is: ₹213.00.

Yaar Mera Haj Kara De – Rajindra Arora
यार मेरा हज करा दे – राजिन्दर अरोरा

यार मेरा हज करा दे लाहौर यात्रा के बहाने देश के बँटवारे की विसंगतियों को उजागर करती है। यह यात्रा बताती है कि बँटवारा कितना दुर्भाग्यपूर्ण, त्रासद और कृत्रिम था।

In stock

Wishlist
SKU: Yaar Mera Haj Kara De - Rajindra Arora Category:

Description

यार मेरा हज करा दे लाहौर यात्रा के बहाने देश के बँटवारे की विसंगतियों को उजागर करती है। यह यात्रा बताती है कि बँटवारा कितना दुर्भाग्यपूर्ण, त्रासद और कृत्रिम था। विभाजन के चलते लाखों परिवारों को उजड़ना पड़ा, अनजान स्थानों और पराये परिवेश में शरण पाने के लिए दर-दर भटकना पड़ा । जिन्दगी की गाड़ी को नये सिरे से पटरी पर लाने की जद्दोजहद में एक पूरी पीढ़ी खप गयी। इस तबाही के साथ ही बँटवारा भावनात्मक और सांस्कृतिक रूप से भी काफी त्रासद साबित हुआ। जैसा कि यार मेरा हज करा दे में वर्णित दास्तान बताती है, अपने घरबार छोड़कर पलायन को विवश हुए लोग उन स्थानों और उस परिवेश की यादों से कभी छुटकारा नहीं पा सके जहाँ उनकी जड़ें थीं। आज भी दोनों तरफ लगाव और जुड़ाव की भावना कायम है, घृणा की राजनीति के तमाम शोर और ऊधम के बावजूद । सरहद आर-पार बहती प्यार की बयार का जो अनुभव इस संस्मरण-कथा में दर्ज हुआ है वह किसी को भी रोमांचित कर सकता है।

About the Author:

इस किताब के लेखक राजिन्दर अरोरा की रुचियाँ विविध हैं। घुमक्कड़, पर्वतारोही, फोटोग्राफी और यादगार चीजों के संग्रह के शौकीन अरोरा पेशे से ग्राफिक डिजाइनर हैं। उनके साहसिक यात्रा वृत्तान्त इंडियन माउण्टेनियर तथा कई ऑनलाइन जर्नलों में प्रकाशित हुए हैं। उनकी कृतियों में शामिल हैं: एवरेस्ट ट्रेल पर एक चित्रमय कॉफी टेबल बुक, गांधी जी पर एक शोक गीत, बच्चों के लिए हिन्दी में चार काव्य पुस्तिकाएँ; इसके अलावा हिन्दी और अँग्रेजी में कहानियाँ। वह अपनी लाहौर यात्रा को सर्वाधिक यादगार मानते हैं। बेहद पढ़ाकू राजिन्दर अरोरा अपनी पत्नी और बच्चों के साथ गुरुग्राम (हरियाणा) में रहते हैं ।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Yaar Mera Haj Kara De – Rajindra Arora”

You may also like…

  • Rang Yatriyo Ke Rahe Guzar by Satya Dev TripathiRang Yatriyo Ke Rahe Guzar by Satya Dev Tripathi

    Original price was: ₹350.00.Current price is: ₹298.00.
    लेकिन इसी सिलसिले में कुछ गिने-चुने लोगों के साथ मानवोचित प्रक्रिया में ऐसे सह-सम्बन्ध भी बने, जिसमें नाटक तो मूल आधार बना और अन्त तक प्रमुख सरोकार बनकर रहा भी, लेकिन उसमें मानवीय प्रवृत्तियाँ नाटक की सीमाओं को लाँघकर जीवनपरक भी हो गयीं-सिर्फ़ नाटक को होने की मोहताज न रहीं। और यह कहने में मुझे कोई संकोच नहीं, कि जीवन से जुड़ जाने के बाद उनके साथ उनके रंगकर्म को समग्रता में जानने-समझने का लुत्फ़ ही कुछ और हो गया। इनमें कुछ बुजुर्ग व महनीय लोगों (ए.के. हंगल, हबीब तनवीर, सत्यदेव दुबे… आदि) से अकूत स्नेह मिला, अनकही सुरक्षा मिली और काफ़ी कुछ सीखने-जानने को मिला…, तो वहीं कुछ हमउम्री के आसपास के रंगकर्मियों के साथ अहर्निश के रिश्ते बने। आपसी दुख-सुख एक हो गये। उनके साथ से संघर्षों-चुनौतियों में सम्बल मिले।
    – आमुख से
  • Siraj-E-Dil JaunpurSiraj-E-Dil Jaunpur

    Original price was: ₹299.00.Current price is: ₹239.00.

    सिराज-ए-दिल जौनपुर हिन्दी में गद्य की एक अभिनव और अनूठी पुस्तक है।

    जिसमें संस्मरण और स्मृति आख्यान से लेकर ललित निबन्ध तक, गद्य की विविध मनोहारी छटाएँ हैं। ऐसे समय जब मान लिया गया है कि ललित निबन्ध की धारा सूख चुकी है, अमित श्रीवास्तव की यह किताब न सिर्फ़ ऐसी धारणा का प्रत्याख्यान है बल्कि उस धारा को नये इलाक़ों में भी ले जाती है। यों तो इस पुस्तक में संकलित ज्यादातर निबन्धों या स्मृति आख्यानों के केन्द्र में पूर्वी उत्तर प्रदेश का एक शहर जौनपुर है लेकिन लेखक ने जो रचा है वह सतही वृत्तान्त या विवरणात्मक ज्ञान के सहारे नहीं रचा जा सकता। इस रचाव के लिए बहुत कुछ विरल चाहिए: इतिहास के कोने-अन्तरे तक पहुँच, भूले-बिसरे नायकों की पहचान और उनके अवदान का ज्ञान, इतिहास और साहित्य से लेकर विज्ञान तक में रुचि, स्थानीय जीवन के रंग और विश्वबोध, आदि। इस पुस्तक को पढ़ते हुए किसी को भी हैरानी होगी कि स्थानीय खान-पान और रीति-रिवाज और गली- मोहल्लों के बारे में जिस रोचकता से स्मृति आख्यान लिखे गये हैं उसी तरह से इतिहास में गुम किरदारों और ज्ञान-विज्ञान से जुड़े प्रसंगों के बारे में भी। चाहे जौनपुर के हिन्दी भवन के बारे में लिखा गया स्मृति आख्यान हो, चाहे किसी अल्पज्ञात शख्सियत के योगदान के बारे में, चाहे साहित्य या इतिहास का कोई मसला हो, चाहे कैथी लिपि के चलन से बाहर हो जाने की पड़ताल, आप समान चाव से पढ़ सकते हैं। इन सबसे लेखक का बहुश्श्रुत और बहुपठित व्यक्तित्व उभरता है। इस पुस्तक में संकलित कई निबन्धों के मद्देनजर यह कहा जा सकता है कि ऐसा रसप्रद और खिलन्दड़ा गद्य कहीं और मुश्किल से मिलेगा। ऐसा गद्य लिखते हुए लेखक ने कई जगह नये शब्द भी रचे हैं। उम्मीद की जानी चाहिए कि इस पुस्तक में संकलित कथेतर गद्य की अभिनवता और अनूठेपन को अलक्षित नहीं किया जाएगा।

  • Lay : Bhav-Bhaav-Anubhav Ki – Purwa BharadwajLay : Bhav-Bhaav-Anubhav Ki – Purwa Bharadwaj

    Original price was: ₹375.00.Current price is: ₹319.00.

    पूर्वा भारद्वाज इस पुस्तक के पहले साहित्य में नहीं रही हैं, वे उसके इर्द-गिर्द लम्बे समय से हैं-साहित्य से उनका सम्बन्ध पारिवारिक है। ‘लय’ के गद्य में भव, भाव और अनुभव की ऐसी छवियाँ, अहसास और बखान हैं जो अक्सर साहित्य के भूगोल में दाखिल नहीं हो पाते हैं। वे ‘लगना’ ‘हलकापन’ और ‘फालतूपन’ पर विचार करती हैं, ‘इमली की खटास’, ‘सिटकनी’ ‘हवाई चप्पल’ पर लिखती हैं और मर्मदृष्टि से ‘बाबा’, ‘नानाजी’, ‘माँ’, नीलाभ मिश्र, रमाबाई आदि को याद करती हैं। सीधा सच्चा बयान और बखान वे, बिना किसी लच्छेदार मुद्रा के, सहज भाव से करती हैं। एक ऐसे समय में जब भव्यता और वैभव क्रूरता को छुपा रहे हैं तब साधारण जीवन में मानवीय ऊष्मा, सहानुभूति और सहकार की अलक्षित उपस्थिति और सम्भावना के दस्तावेज़ के रूप में यह पुस्तक प्रासंगिक है।

    – अशोक वाजपेयी

     

    Kindle E-Book Also Available
    Available on Amazon Kindle

  • Aks by Akhilesh

    Original price was: ₹399.00.Current price is: ₹339.00.

    अक्स के संस्मरणों के चरित्र, अखिलेश की जीवनकथा में घुल-मिलकर उजागर होते हैं। अखिलेश का कथाकार इन स्मृति लेखों में मेरे विचार से नयी ऊँचाई पाता है। उनके गद्य में, उनके इन संस्मरणात्मक लेखन के वाक्य में अवधी की रचनात्मकता का जादू भरा है। -विश्वनाथ त्रिपाठी


    Kindle E-Book Also Available
    Available on Amazon Kindle

     

कविता-संग्रह 'स्मृतियों के बीच घिरी है पृथ्वी