Showing all 6 results

Filters
  • Setu Vichar: Sachidanand Sinha Edited By Arvind MohanSetu Vichar: Sachidanand Sinha Edited By Arvind Mohan

    Original price was: ₹450.00.Current price is: ₹383.00.

    सच्चिदानन्द सिन्हा छात्र जीवन में ही समाजवादी आन्दोलन से जुड़ गये। प्रारम्भ में मजदूर और किसान आन्दोलन में सक्रिय रहे । पाँच दशक से अधिक समय से लिखते रहे हैं। मूर्धन्य समाजवादी चिन्तक सच्चिादा जी की प्रकाशित पुस्तकें हैं : समाजवाद के बढ़ते चरण, जिन्दगी : सभ्यता के हाशिये पर, उपभोक्तावादी संस्कृति, भारतीय राष्ट्रीयता और साम्प्रदायिकता, मानव सभ्यता और राष्ट्र राज्य, नक्सली आन्दोलन का वैचारिक संकट, संस्कृति विमर्श । (अँग्रेजी में) द इण्टरनल कॉलोनी, सोशलिज्म ऐण्ड पॉवर, द बिटर हार्वेस्ट, एमरजेंसी इन पर्सपेक्टिव, द परमानेण्ट क्राइसिस ऑफ इण्डिया, केओस एण्ड क्रियेशन, कास्ट सिस्टम: मिथ्स, रिएलिटी, चैलेंज; द एडवेंचर्स ऑफ लिबर्टी, कोएलिशन इन पॉलिटिक्स, द अनार्ड प्रोफेट, सोशलिज्म : ए मैनिफेस्टो फॉर सर्वाइवल । लेखक बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के ग्राम मनिका में रहते हैं।

  • Setu Vichar Sudipta Kaviraj

    Original price was: ₹499.00.Current price is: ₹424.00.

    सुदीप्त कविराज बौद्धिक इतिहास और भारतीय राजनीतिशास्त्र के विशेषज्ञ हैं। उनका काम बौद्धिक इतिहास के दो क्षेत्रों से ताल्लुक रखता है-उन्नीसवीं और बीसवीं शताब्दी में भारतीय सामाजिक तथा राजनीतिक विचार; और साहित्य व संस्कृति में आधुनिक भारतीय सृजन। भारतीय राज्य का ऐतिहासिक समाजशास्त्र तथा पश्चिम की सामाजिक सैद्धान्तिकी के कुछ पहलू उनकी रुचि और शोध […]

  • Setu Vichar – Mao Zedong – Edited by Madan Kashyap (Paperback)

    170.00

    Setu Vichar – Mao Zedong Edited by Madan Kashyap (Paperback Edition)
    सेतु विचार – माओ ज़ेदोंग

  • Setu Vichar – Mao Zedong – Edited by Madan Kashyap

    499.00

    Setu Vichar – Mao Zedong Edited by Madan Kashyap
    सेतु विचार – माओ ज़ेदोंग

  • Swami Vivekanand – Avdesh Pradhan

    Original price was: ₹525.00.Current price is: ₹446.00.

    Swami Vivekanand – Avdesh Pradhan
    ‘स्वामी विवेकानन्द’ – अवदेश प्रधान

    स्वामी विवेकानन्द की वाणी के इस संग्रह में सबसे पहले शिकागो की विश्व-धर्म-सभा में उनके दिये गये व्याख्यान हैं। स्वामी जी और उनके शब्दों में छिपी किसी अव्यक्त वस्तु ने ही उन श्रोताओं को अनुप्राणित कर दिया था कि इस वाणी में खोखली भावुकता की बजाय वास्तविक सत्य की अभिव्यक्ति हुई थी

  • Aacharya Narendradev – Rajendra Rajan

    525.00

    Aacharya Narendradev – Rajendra Rajan
    आचार्य नरेन्द्रदेव – राजेन्द्र राजन

    यह पुस्तक आचार्य नरेन्द्रदेव के लेखन से चुनिन्दा सामग्री का एक संकलन है, जिसका मकसद उनके चिन्तन की एक झाँकी प्रस्तुत करना है।