Atma Namaste : Uniting With The Deeper Self by Anwar Haidary

340.00400.00

Life can often be challenging, and at
times, it can feel like we’re stuck in a
never-ending cycle of struggle and pain.
But there is hope. In this powerful book,
you will discover the ancient wisdom of
the Law of Karma and how it is applied
to your life to bring peace and positivity.
When I saw the title, “Atma Namaste,” I
wondered what kind of information
would be in this book. Usually, you think
“Atma” is spirit, and I thought, “Is this
book going to describe spirits and how
to connect with them?” And lo and
behold! I realized that the book speaks
about me. The author has given me a
different perspective about myself! I
was impressed.
Anwar has clarified and elaborated on
our understanding of Karma. He has
beautifully explained the concept of
Karma and given the reader the
direction in which one can put their
efforts to improve their life’s conditions.
The usual tendency is to shy away from
spiritual talks assuming that it is not
relevant to our life as we live it. But wait!
First, read the book to its very end, and
you will realize how easy it is to apply
spiritual principles to our daily lives.

Buy This Book with 1 Click Via RazorPay (15% + 5% discount Included)

In stock

Wishlist

Atma Namaste : Uniting With The Deeper Self by Anwar Haidary

SKU: Atma Namaste-Paperback
Category:
Author

Anwar Haidary

Binding

Paperback

Language

Hindi

ISBN

9788119127702

Pages

152

Publisher

Setu Prakashan Samuh

Publication date

10-02-2024

Customer Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Atma Namaste : Uniting With The Deeper Self by Anwar Haidary”

You may also like…

  • Jansankhya Ka Mithak By S.Y. Quraishi (Paperback)

    Jansankhya Ka Mithak By S.Y. Quraishi

    प्रस्तुत पुस्तक एस.वाई. कुरैशी की चर्चित किताब `The Population Myth` का हिंदी अनुवाद है। जनसंख्या राजनीति के अधिकारी विद्वान एस.वाई. कुरैशी की किताब `जनसंख्या का मिथक` जनसंख्या के आँकड़ों को तोड़-मरोड़कर पेश करने की दक्षिणपन्थी चालबाजी का पर्दा फाश करती है; इस कुचक्र के चलते ही बहुसंख्यकों में जनसांख्यिकी संरचना और

    339.00399.00
  • Andolanjivi By Vinod Agnihotri

    विनोद अग्निहोत्री जी को मैं पिछले चार दशकों से जानता हूँ। वे एक गम्भीर और संवेदनशील पत्रकार हैं। उन्होंने देश के सामाजिक बदलावों और जन-आन्दोलनों का सूक्ष्म अध्ययन किया है और उनके बारे में लगातार लिखा है। किसी भी लोकतन्त्र की सुदृढ़ता और गतिशीलता के लिए सामाजिक सरोकारों के मुद्दों पर आम जनता की भागीदारी तथा एकजुट होकर संवैधानिक तरीके से अपनी माँगें उठाते रहना जरूरी होता है। यह पुस्तक इन प्रक्रियाओं का एक महत्त्वपूर्ण दस्तावेज है जो सत्ता प्रतिष्ठानों के लिए आईना और युवा पीढ़ी में अन्याय के खिलाफ चुप्पी तोड़कर सत्य और न्याय के लिए अहिंसात्मक तरीके अपनाने की प्रेरणा देगा।

    – कैलाश सत्यार्थी नोबेल पुरस्कार विजेता
    Buy This Book Instantly thru RazorPay (20% + 5% extra discount)

    Or use Add to cart button to use our shopping cart

    424.00499.00
  • Bhartiya Chintan Ki Bahujan Parampra By Om Prakash Kashyap

    सत्ता चाहे किसी भी प्रकार की और कितनी ही महाबली क्यों न हो, मनुष्य की प्रश्नाकुलता से घबराती है। इसलिए वह उसको अवरुद्ध करने के लिए तरह-तरह के टोटके करती रहती है। वैचारिकता के ठहराव या खालीपन को भरने के लिए कर्मकाण्डों का सहारा लेती है। उन्हें धर्म का पर्याय बताकर उसका स्थूलीकरण करती है। कहा जा सकता है कि धर्म की आवश्यकता जनसामान्य को पड़ती है। उन लोगों को पड़ती है, जिनकी जिज्ञासाएँ या तो मर जाती हैं अथवा किसी कारणवश वह उनपर ध्यान नहीं दे पाता है। यही बात उसके जीवन में धर्म को अपरिहार्य बनाती है। दूसरे शब्दों में धर्म मनुष्य की मूलभूत आवश्यकता न होकर, परिस्थितिगत आवश्यकता है। जनसाधारण अपने बौद्धिक आलस्य तथा जीवन की अन्यान्य उलझनों में घिरा होने के कारण धार्मिक बनता है। न कि धर्म को अपने लिए अपरिहार्य मानकर उसे अपनाता है। फिर भी मामला यहीं तक सीमित रहे तो कोई समस्या न हो। समस्या तब पैदा होती है जब वह खुद को कथित ईश्वर का बिचौलिया बताने वाले पुरोहित को ही सब कुछ मानकर उसके वाग्जाल में फँस जाता है। अपने सभी फैसले उसे सौंपकर उसका बौद्धिक गुलाम बन जाता है।

    – इसी पुस्तक से

    Buy This Book with 1 Click Via RazorPay (15% + 5% discount Included)

    552.00649.00
  • Shriramakrishna Paramhansa Edited By Awadhesh Pradhan

    “कछुआ रहता तो पानी में है, पर उसका मन रहता है किनारे पर जहाँ उसके अण्डे रखे हैं। संसार का काम करो, पर मन रखो ईश्वर में।”

    “बिना भगवद्-भक्ति पाये यदि संसार में रहोगे तो दिनोदिन उलझनों में फँसते जाओगे और यहाँ तक फँस जाओगे कि फिर पिण्ड छुड़ाना कठिन होगा। रोग, शोक, तापादि से अधीर हो जाओगे। विषय-चिन्तन जितना ही करोगे, आसक्ति भी उतनी ही अधिक बढ़ेगी।”
    “संसार जल है और मन मानो दूध । यदि पानी में डाल दोगे तो दूध पानी में मिल जाएगा, पर उसी दूध का निर्जन में मक्खन बनाकर यदि पानी में छोड़ोगे तो मक्खन पानी में उतराता रहेगा। इस प्रकार निर्जन में साधना द्वारा ज्ञान-भक्ति प्राप्त करके यदि संसार में रहोगे भी तो संसार से निर्लिप्त रहोगे।”
    – इसी पुस्तक से
    298.00350.00