Mukhtasar Meri Kahani By Sayed Haider Raza

450.00

Mukhtasar Meri Kahani By Sayed Haider Raza
मुख्तसर मेरी कहानी – सैयद हैदर रजा

In stock

Wishlist

About Author

सैयद हैदर रजा
२२ फ़रवरी १९२२ को मध्य प्रदेश के बाबरिया में जन्मे, भारत के मूर्धन्य आधुनिक चित्रकार सैयद हैदर रज़ा ने अपनी पढ़ाई पहले नागपुर स्कूल आव्‌ आर्ट्स और फिर बॉम्बे में सर जे.जे.स्कूल आव्‌ आर्ट्स से की।
बॉम्बे में, उन्होंने कई चित्र-प्रदर्शनियों में भाग लिया और प्रोग्रेसिव आर्टिस्ट्स ग्रुप के संस्थापक सदस्य बने। फिर वे फ्रांसीसी सरकार की छात्रवृत्ति पर पैरिस चले गये जहाँ उन्होंने १९५० से १९५३ तक इकोल द बोज़ार पैरिस में अध्ययन किया। उन्होंने फ्रांस के अलावा वेनिस, साओ पाउलो, मान्तों द्विवार्षिकी सहित नयी दिल्ली की त्रैवार्षिकी जैसी कई चित्र-प्रदर्शनियों में भाग लिया। १९५६ में, उन्हें प्री द ला क्रीतीक से सम्मानित किया गया।

SKU: mukhtasar-meri-kahani-by-sayed-haider-raza
Category:
Tags:, , ,
ISBN

9789392228681

Author

Sayed Haider Raza

Pages

196

Publisher

Setu Prakashan Samuh

Imprint

Setu Prakashan

Language

Hindi

Customer Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Mukhtasar Meri Kahani By Sayed Haider Raza”

You may also like…

  • Kaal Ke Kapal Par Hastakshar : Harishankar Parsai Ki Pramanik Jeevani

    इस जीवनी में परसाई के अलक्षित जीवन प्रसंगों को पढ़ना रोमांचकारी है। इसमें लक्षित परसाई से कहीं अधिक अलक्षित परसाई हैं जिन्हें जाने बिना वह चरितव्य समझ नहीं आएगा, जो परसाई के मनुष्य और लेखक को एपिकल बनाता है। जीवनी जीवन चरित है। ये गद्य और पद्य दोनों में लिखी गयी हैं। संस्कृत, प्राकृत और अपभ्रंश में जीवनी

    532.00625.00
  • Prem Aur Kranti : Faiz Ahmad Faiz by Ali Madeeh Hashmi

    Prem Aur Kranti : Faiz Ahmad Faiz by Ali Madeeh Hashmi

    प्रेम और क्रांति फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ – डॉ. अली मदीह हाशमी

    फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ सरकारों की तानाशाही के ख़िलाफ़ अब प्रतीक बन चुके हैं, जहाँ-जहाँ भी ज़ुल्म व सितम होते हैं उनकी कविताएँ पोस्टर और नारों की शक्ल में लहराने लगती हैं. उनके जीवन के प्रति जिज्ञासा का भाव स्वाभाविक है. उनके नाती अली मदीह हाशमी ने उनकी जीवनी अंग्रेजी में लिखी है जिसका हिंदी अनुवाद सेतु प्रकाशन से आया है. इसे फ़ैज़ की अधिकृत जीवनी कहा जा रहा है.

    इस पुस्तक पर २०% की विशेष छूट चल रही है
    ऑफर ३० अप्रैल २०२४ तक वैध

    360.00450.00
  • VAA GHAR SABSE NYAARA – Dhruva shukla

    VAA GHAR SABSE NYAARA – Dhruva shukla

    हिन्दी कवि कथाकार ध्रुव शुक्ल ने जो प्रयत्न किया है, वह मूल्यवान् और कुमार जी के बारे में अब तक जो लिखा-समझा गया है, उसमें कुछ नया, रोचक और सार्थक जोड़ता है।

    280.00350.00