Menu Close

Shop

Sale!

Allah Naam Ki Siyasat – Hilal Ahmed

Original price was: ₹449.00.Current price is: ₹359.00.

Allah Naam Ki Siyasat – Hilal Ahmed
‘अल्लाह नाम की सियासत’ – हिलाल अहमद

अल्लाह नाम की सियासत एक बेहद विचारोत्तेजक पुस्तक है। यह किताब ऐसे वक्त आयी है जब भारत में मुसलमानों और इस्लाम को लेकर बहुत सारी गलतफ़हमियों और अज्ञान का बाज़ार गर्म है।


Kindle E-Book Also Available
Available on Amazon Kindle

In stock

Wishlist
SKU: Allah Naam Ki Siyasat - Hilal Ahmed Category:

Description

अल्लाह नाम की सियासत एक बेहद विचारोत्तेजक पुस्तक है। यह किताब ऐसे वक्त आयी है जब भारत में मुसलमानों और इस्लाम को लेकर बहुत सारी गलतफ़हमियों और अज्ञान का बाज़ार गर्म है। यह किताब इस चुनौती से पार पाने की कोशिश तो है ही, आज़ादी के बाद भारत में इस्लाम और मुसलमानों के संदर्भ में उठने वाले सारे ज्वलन्त प्रश्नों पर गहराई से विचार करती है।

About the Author:

अल्लाह नाम की सियासत इसके लेखक हिलाल अहमद इस विषय के एक गहन अध्येता और जाने-माने समाज विज्ञानी हैं। उन्होंने विवादों और मुद्दों को उनकी पृष्टभूमि में खँगालने के साथ ही उनपर अपने वैचारिक आदर्शों की रोशनी में विचार किया है।

 

Additional information

ISBN

9788195965526

Author

Hilal Ahmed

Binding

Paperback

Pages

360

Publication date

05-01-2023

Imprint

Setu Prakashan

Language

Hindi

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Allah Naam Ki Siyasat – Hilal Ahmed”

You may also like…

  • Bhartiya Chintan Ki Bahujan Parampra By Om Prakash KashyapBhartiya Chintan Ki Bahujan Parampra By Om Prakash Kashyap

    Original price was: ₹649.00.Current price is: ₹552.00.

    सत्ता चाहे किसी भी प्रकार की और कितनी ही महाबली क्यों न हो, मनुष्य की प्रश्नाकुलता से घबराती है। इसलिए वह उसको अवरुद्ध करने के लिए तरह-तरह के टोटके करती रहती है। वैचारिकता के ठहराव या खालीपन को भरने के लिए कर्मकाण्डों का सहारा लेती है। उन्हें धर्म का पर्याय बताकर उसका स्थूलीकरण करती है। कहा जा सकता है कि धर्म की आवश्यकता जनसामान्य को पड़ती है। उन लोगों को पड़ती है, जिनकी जिज्ञासाएँ या तो मर जाती हैं अथवा किसी कारणवश वह उनपर ध्यान नहीं दे पाता है। यही बात उसके जीवन में धर्म को अपरिहार्य बनाती है। दूसरे शब्दों में धर्म मनुष्य की मूलभूत आवश्यकता न होकर, परिस्थितिगत आवश्यकता है। जनसाधारण अपने बौद्धिक आलस्य तथा जीवन की अन्यान्य उलझनों में घिरा होने के कारण धार्मिक बनता है। न कि धर्म को अपने लिए अपरिहार्य मानकर उसे अपनाता है। फिर भी मामला यहीं तक सीमित रहे तो कोई समस्या न हो। समस्या तब पैदा होती है जब वह खुद को कथित ईश्वर का बिचौलिया बताने वाले पुरोहित को ही सब कुछ मानकर उसके वाग्जाल में फँस जाता है। अपने सभी फैसले उसे सौंपकर उसका बौद्धिक गुलाम बन जाता है।

    – इसी पुस्तक से

    Buy This Book with 1 Click Via RazorPay (15% + 5% discount Included)

  • Shriramakrishna Paramhansa Edited By Awadhesh PradhanShriramakrishna Paramhansa Edited By Awadhesh Pradhan

    Original price was: ₹350.00.Current price is: ₹298.00.

    “कछुआ रहता तो पानी में है, पर उसका मन रहता है किनारे पर जहाँ उसके अण्डे रखे हैं। संसार का काम करो, पर मन रखो ईश्वर में।”

    “बिना भगवद्-भक्ति पाये यदि संसार में रहोगे तो दिनोदिन उलझनों में फँसते जाओगे और यहाँ तक फँस जाओगे कि फिर पिण्ड छुड़ाना कठिन होगा। रोग, शोक, तापादि से अधीर हो जाओगे। विषय-चिन्तन जितना ही करोगे, आसक्ति भी उतनी ही अधिक बढ़ेगी।”
    “संसार जल है और मन मानो दूध । यदि पानी में डाल दोगे तो दूध पानी में मिल जाएगा, पर उसी दूध का निर्जन में मक्खन बनाकर यदि पानी में छोड़ोगे तो मक्खन पानी में उतराता रहेगा। इस प्रकार निर्जन में साधना द्वारा ज्ञान-भक्ति प्राप्त करके यदि संसार में रहोगे भी तो संसार से निर्लिप्त रहोगे।”
    – इसी पुस्तक से
  • Andolanjivi By Vinod AgnihotriAndolanjivi By Vinod Agnihotri

    Original price was: ₹499.00.Current price is: ₹424.00.

    विनोद अग्निहोत्री जी को मैं पिछले चार दशकों से जानता हूँ। वे एक गम्भीर और संवेदनशील पत्रकार हैं। उन्होंने देश के सामाजिक बदलावों और जन-आन्दोलनों का सूक्ष्म अध्ययन किया है और उनके बारे में लगातार लिखा है। किसी भी लोकतन्त्र की सुदृढ़ता और गतिशीलता के लिए सामाजिक सरोकारों के मुद्दों पर आम जनता की भागीदारी तथा एकजुट होकर संवैधानिक तरीके से अपनी माँगें उठाते रहना जरूरी होता है। यह पुस्तक इन प्रक्रियाओं का एक महत्त्वपूर्ण दस्तावेज है जो सत्ता प्रतिष्ठानों के लिए आईना और युवा पीढ़ी में अन्याय के खिलाफ चुप्पी तोड़कर सत्य और न्याय के लिए अहिंसात्मक तरीके अपनाने की प्रेरणा देगा।

    – कैलाश सत्यार्थी नोबेल पुरस्कार विजेता
    Kindle E-Book Also Available

    Available on Amazon Kindle

    Buy This Book Instantly thru RazorPay (20% + 5% extra discount)

    Or use Add to cart button to use our shopping cart

  • Ambedkar Dalit Aur Stri Prashan By Ram Puniyani And RavikantAmbedkar Dalit Aur Stri Prashan By Ram Puniyani And Ravikant

    Original price was: ₹425.00.Current price is: ₹361.00.

    आंबेडकर दलित और स्त्री प्रश्न – राम पुनियानी और रविकांत

    साम्प्रदायिकता वह राजनीति है जो धर्म के नाम पर चलायी जाती है। दूसरे शब्दों में, साम्प्रदायिकता, धार्मिक पहचान के आधार पर राजनीतिक समर्थन जुटाती है। यद्यपि ऊपर से देखने से ऐसा लगता है कि यह धर्म आधारित राष्ट्रवादी संघर्ष है तथापि यथार्थ में साम्प्रदायिकता वह राजनीति है जो प्रजातन्त्र का गला घोंटती है, जन्म आधारित जाति व्यवस्था और लिंग भेद को समाज पर लादती है और सामाजिक बदलाव की प्रक्रिया में रोड़े अटकाती है। यह वह राजनीति है, जो स्वतन्त्रता, समानता और बन्धुत्व के मूल्यों को नकारती है। वो बात तो सामाजिक सद्भाव की करती है परन्तु अल्पसंख्यकों पर खुलकर निशाना साधती है।

कविता-संग्रह 'स्मृतियों के बीच घिरी है पृथ्वी