Menu Close

Shop

Renu Ki Talash – Bharat Yayawar – Paperback

299.00

Renu Ki Talash – Bharat Yayawar
रेणु की तलाश – भारत यायावर

‘रेणु की तलाश’ न तो रेणु का जीवन-वृत्तान्त है न संस्मरण न समीक्षा; अलबत्ता इस किताब में इन तीनों विधाओं के तत्त्व मौजूद हैं। इस पुस्तक के लेखक भारत यायावर, रेणु की खोज को, अपने जीवन की ‘परम साधना और सार्थकता’ मानते हैं पर यह शोध-कार्य किस्म की शुष्क खोज नहीं है।

In stock

Wishlist

Description

‘रेणु की तलाश’ न तो रेणु का जीवन-वृत्तान्त है न संस्मरण न समीक्षा; अलबत्ता इस किताब में इन तीनों विधाओं के तत्त्व मौजूद हैं। इस पुस्तक के लेखक भारत यायावर, रेणु की खोज को, अपने जीवन की ‘परम साधना और सार्थकता’ मानते हैं पर यह शोध-कार्य किस्म की शुष्क खोज नहीं है। यह एक कथा-लेखक को उसके अंचल में, उसके परिवेश में, उसके पात्रों और उसके अनुभव जगत्‌ के बीच खोजना है। यह रेणु के कथा-स्रोत, उनकी अन्‍तःप्रेरणाओं और उनकी रचना प्रक्रिया की तलाश है। यह रेणु को रेणु बनते हुए और उनकी रचनाओं को रचे जाते हुए देखना है। इस क्रम में जहाँ रेणु के बरे में लोगों से सुने हुए संस्मरण पाठक को बाँधे रखते हैं वहीं ‘चम्बल घाटी में डाकुओं के बीच मैला आँचल’ जैसा अज्ञात या अल्पज्ञात प्रसंग रोमांचित करता है।

About Author

Bharat Yayawar
झारखण्ड के हजारीबाग में 29 नवम्बर, 1954 को जन्म। मूलत: कवि और खोजी। कई कविता पुस्तकें और रेणु पर पच्चीस पुस्तकें (मौलिक एवं सम्पादित) प्रकाशित। महावीर प्रसाद द्विवेदी रचनावली का सम्पादन। नामवर सिंह की जीवनी, रेणु की जीवनी एवं दो आलोचना की पुस्तकें प्रकाशित, ‘रेणु की तलाश’ इनकी हालिया प्रकाशित आलोचना पुस्तक है।

Additional information

ISBN

9789391277420

Author

Bharat Yayawar

Binding

Paperback

Pages

292

Publisher

Setu Prakashan Samuh

Imprint

Setu Prakashan

Language

Hindi

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Renu Ki Talash – Bharat Yayawar – Paperback”

You may also like…

  • Renu : Ek Jeewani – Bharat Yayawar

    599.00

    Renu : Ek Jeewani – Bharat Yayawar

    रेणु एक जीवनी – भारत यायावर

    भारत यायावर की ख्याति फणीश्वरनाथ रेणु के विशेषज्ञ के रूप में सुस्थापित है। उन्होंने जो जीवनी लिखने का उद्यम किया है, यह उसका पहला भाग है।

  • Renu : Kahani Ka Hiraman By Mrityunjay Pandey

    449.00

    फणीश्वरनाथ रेणु पर बहुत कुछ लिखा गया है लेकिन मृत्युंजय पाण्डेय की यह किताब रेणु :

    कहानी का हिरामन रेणु सम्बन्धी ढेर सारी आलोचनात्मक सामग्री के बरअक्स कई मायनों में विशिष्ट है। अलबत्ता जैसा कि नाम से ही जाहिर है, इस समीक्षात्मक कृति को लेखक ने रेणु की कहानियों तक सीमित रखा है। पर इससे लाभ यह हुआ कि कहानीकार रेणु के अनूठेपन, उनकी कहानी यात्रा के विभिन्न पड़ावों, उनकी कहानियों की रचना प्रक्रिया और पृष्ठभूमि, उनके शिल्प और कथ्य आदि की विस्तार से चर्चा हो सकी है, और यह विद्यार्थियों व शोधकर्ताओं से लेकर रेणु साहित्य के रसिकों, सभी के लिए कहीं अधिक मूल्यवान साबित होगी। यह इसलिए भी जरूरी था क्योंकि रेणु सम्बन्धी समालोचना प्रायः ‘मैला आँचल’ पर सिमट जाती रही है। प्रस्तुत पुस्तक में जहाँ रेणु की कहानियों की पृष्ठभूमि तलाशते हुए उनके रचे जाने की प्रक्रिया की पड़ताल की गयी है, वहीं उनकी कहानियों की भाषा शिल्प शैली आति हरेक पक्ष
    Buy This Book Instantly thru RazorPay
    (15% + 5% Extra Discount Included)
  • Jinna : Unki Safaltayein, Vifaltayein Aur Itihas Me Unki Bhoomika by Ishtiaq AhmedJinna : Unki Safaltayein, Vifaltayein Aur Itihas Me Unki Bhoomika by Ishtiaq Ahmed

    Original price was: ₹700.00.Current price is: ₹560.00.

    (20%+5% की विशेष छूट )
    अपनी प्रति सुरक्षित करते समय कूपन कोड ‘JINNA’ इस्तेमाल करें और 5% की अतिरिक्त छूट का लाभ उठायें |

    मुहम्मद अली जिन्ना भारत विभाजन के सन्दर्भ में अपनी भूमिका के लिए निन्दित और प्रशंसित दोनों हैं। साथ ही उनकी मृत्यु के उपरान्त उनके इर्द- गिर्द विभाजन से जुड़ी अफवाहें खूब फैलीं।

    इश्तियाक अहमद ने कायद-ए-आजम की सफलता और विफलता की गहरी अन्तर्दृष्टि से पड़ताल की है। इस पुस्तक में उन्होंने जिन्ना की विरासत के अर्थ और महत्त्व को भी समझने की कोशिश की है। भारतीय राष्ट्रवादी से एक मुस्लिम विचारों के हिमायती बनने तथा मुस्लिम राष्ट्रवादी से अन्ततः राष्ट्राध्यक्ष बनने की जिन्ना की पूरी यात्रा को उन्होंने तत्कालीन साक्ष्यों और आर्काइवल सामग्री के आलोक में परखा है। कैसे हिन्दू मुस्लिम एकता का हिमायती दो-राष्ट्र की अवधारणा का नेता बना; क्या जिन्ना ने पाकिस्तान को मजहबी मुल्क बनाने की कल्पना की थी-इन सब प्रश्नों को यह पुस्तक गहराई से जाँचती है। आशा है इस पुस्तक का हिन्दी पाठक स्वागत करेंगे।
    JINNAH: His Successes, Failures and Role in History का हिन्दी अनुवाद
    Buy This Book Instantly thru RazorPay
    (20% + 5% Extra Discount Included)

    Or use Add to cart button Below, to use our shopping cart

  • RENU KE UDDHARAN By Mithlesh Sharan Choubey

    Original price was: ₹250.00.Current price is: ₹225.00.

    Renu Ke Uddharan
    रजा पुस्तक माला के अन्तर्गत हमने कुछ मूर्धन्य लेखकों के उद्धरणों के संचयन प्रकाशित किये हैं जिनमें अज्ञेय और मुक्तिबोध शामिल हैं। प्रस्तुत पुस्तक फणीश्वरनाथ रेणु के उद्धरणों का संचयन है जो उनकी कई विधाओं में लिखी गयी कृतियों से लिये गये हैं।

Jinna - Hindi