Jinna : Unki Safaltayein, Vifaltayein Aur Itihas Me Unki Bhoomika by Ishtiaq Ahmed

560.00700.00

(20%+5% की विशेष छूट )
अपनी प्रति सुरक्षित करते समय कूपन कोड ‘JINNA’ इस्तेमाल करें और 5% की अतिरिक्त छूट का लाभ उठायें |

मुहम्मद अली जिन्ना भारत विभाजन के सन्दर्भ में अपनी भूमिका के लिए निन्दित और प्रशंसित दोनों हैं। साथ ही उनकी मृत्यु के उपरान्त उनके इर्द- गिर्द विभाजन से जुड़ी अफवाहें खूब फैलीं।

इश्तियाक अहमद ने कायद-ए-आजम की सफलता और विफलता की गहरी अन्तर्दृष्टि से पड़ताल की है। इस पुस्तक में उन्होंने जिन्ना की विरासत के अर्थ और महत्त्व को भी समझने की कोशिश की है। भारतीय राष्ट्रवादी से एक मुस्लिम विचारों के हिमायती बनने तथा मुस्लिम राष्ट्रवादी से अन्ततः राष्ट्राध्यक्ष बनने की जिन्ना की पूरी यात्रा को उन्होंने तत्कालीन साक्ष्यों और आर्काइवल सामग्री के आलोक में परखा है। कैसे हिन्दू मुस्लिम एकता का हिमायती दो-राष्ट्र की अवधारणा का नेता बना; क्या जिन्ना ने पाकिस्तान को मजहबी मुल्क बनाने की कल्पना की थी-इन सब प्रश्नों को यह पुस्तक गहराई से जाँचती है। आशा है इस पुस्तक का हिन्दी पाठक स्वागत करेंगे।
JINNAH: His Successes, Failures and Role in History का हिन्दी अनुवाद
Buy This Book Instantly thru RazorPay
(20% + 5% Extra Discount Included)

Or use Add to cart button Below, to use our shopping cart

In stock

Wishlist

Jinna : Unki Safaltayein, Vifaltayein Aur Itihas Me Unki Bhoomika
by Ishtiaq Ahmed
Translated by Alok Bajpeyi, Alka Bajpeyi

SKU: Jinna _ Paperback
Categories:,
Author

Ishtiaq Ahmed

Translation

Alok Bajpeyi, Alka Bajpeyi

Binding

Paperback

Language

Hindi

Pages

680

ISBN

9789362013347

Publisher

Setu Prakashan Samuh

Publication date

10-02-2024

Customer Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Jinna : Unki Safaltayein, Vifaltayein Aur Itihas Me Unki Bhoomika by Ishtiaq Ahmed”

You may also like…

  • Inshallah By Abhiram Bhadkamkar

    मुस्लिम समाज की तरफ देखने के आज तक के सारे एक तरफा और दुराग्रही दृष्टिकोण को नकारते हुए, स्पष्ट भाषा में, बेबाक वास्तव का चित्रण कराने वाले इस उपन्यास ने विचार के स्तर पर एक नये मन्थन का आरम्भ किया है।

    यह उपन्यास मुस्लिम समाज की आज की स्थिति और बहुसंख्यकों के साथ के उनके जटिल रिश्तों का भी विमर्श प्रस्तुत करता है।

    मुस्लिम समाज में व्याप्त धार्मिक संकीर्णता, रूढ़िवादिता, परम्परा और उनकी कर्मठता पर भाष्य करते हुए इस समाज को वोट बैंक बनाकर रखने और इस्तेमाल करने की राजनीतिक मानसिकता को भी आड़े हाथ लेता है।

    361.00425.00
  • DO DESH AUR TISARI UDASI By Maheder Bhalla

    दो देश और तीसरी उदासी

    400.00
  • Allah Naam Ki Siyasat – Hilal Ahmed

    Allah Naam Ki Siyasat – Hilal Ahmed
    ‘अल्लाह नाम की सियासत’ – हिलाल अहमद

    अल्लाह नाम की सियासत एक बेहद विचारोत्तेजक पुस्तक है। यह किताब ऐसे वक्त आयी है जब भारत में मुसलमानों और इस्लाम को लेकर बहुत सारी गलतफ़हमियों और अज्ञान का बाज़ार गर्म है।

    इस पुस्तक पर २०% की विशेष छूट चल रही है
    ऑफर ३० अप्रैल २०२४ तक वैध

    359.00449.00