Vichaar Ki Sugandh – Ashok Vajpayi par Ekagra By Mahavir Agarwal

254.00299.00

मैंने अब तक जिन दुर्लभ मनीषियों से ‘इण्टरव्यू’ लिये हैं उनमें से एक हैं, कवि-आलोचक अशोक वाजपेयी । अशोकजी के अनगिनत चाहने वालों में मैं भी उनका एक मुग्ध प्रशंसक हूँ। पुस्तक में चुने हुए ग्यारह संवाद सम्मिलित हैं। इन संवादों के झरोखे से अशोकजी के अन्तर्मन को समझने की कोशिश हुई है।

संस्कृतिकर्मी अशोक वाजपेयी के बहुआयामी व्यक्तित्व को जानने की चाह के चलते कथाकार कृष्णा सोबती के साथ-साथ ललित सुरजन, रमेश नैयर और विनोद शाही से छबि-संग्रह, साहित्यिक पत्रकारिता, वक्तृत्व कला पर आमने-सामने बैठकर ‘साक्षात्कार’ लेने का सुयोग मुझे मिला। विश्व कविता समारोह, कई कला प्रदर्शनियों और शानदार नाटकों के मंचन सहित भारत भवन में आयोजित होने वाली अनेकानेक विचार गोष्ठियाँ अप्रतिम रही हैं।

In stock

Wishlist

विचार की सुगन्ध अशोक वाजपेयी पर एकाग्र
Vichaar Ki Sugandh – Ashok Vajpayi par ekagra By Mahavir Agarwal

 

महावीर अग्रवाल

जन्म : २५ मई १९४६ : छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले का गाँव कुरुद ।
कृतियाँ : पण्डवानी, नाचा, लोक-संस्कृति, व्यंग्य, आलोचना, नाटक और रिपोर्ताज की बीस पुस्तकें प्रकाशित । नव साक्षरों के लिए दस पुस्तकें प्रकाशित ।
साक्षात्कार : कवि, कहानीकार, आलोचक, नाटककार और लोक कलाकारों के ५०० से अधिक साक्षात्कार प्रकाशित ।
सम्पादन :
१. ‘सापेक्ष’ के कबीर, शमशेर, नागार्जुन, त्रिलोचन, कमलेश्वर, विनोद कुमार शुक्ल केन्द्रित विशेषांकों सहित कुल ६३ अंक प्रकाशित ।
२. कहानी की एक सदी पर केन्द्रित ‘कथायन’ के ५२ अंकों में हिन्दी की चुनी हुई ५०० से अधिक श्रेष्ठ कहानियाँ प्रकाशित ।

SKU: Vichaar Ki Sugandh-paperback
Category:
Tags:, , , , ,
Author

Mahavir Agarwal

ISBN

9788119899944

Language

Urdu

Binding

Paperback

Pages

206

Publication date

23-01-2024

Publisher

Setu Prakashan Samuh

Customer Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Vichaar Ki Sugandh – Ashok Vajpayi par Ekagra By Mahavir Agarwal”

You may also like…

  • APNE SAMAY MEIN By Ashok Vajpeyi

    APNE SAMAY MEIN By Ashok Vajpeyi
    अपने समय में – अशोक वाजपेयी

    191.00225.00
  • Apna Samay Nahin By Ashok Vajpeyi

    Apna Samay Nahin By Ashok Vajpeyi

    अपने को लिखना और अपने समय को लिखना वैसे तो दो अलग-अलग काम हैं; पर कविता में वे अक्सर घुल-मिल जाते हैं : अपने को बिना अपने समय के लिखना मुमकिन नहीं होता और अपने समय को लिखना बिना अपने को लिखे हो नहीं पाता।

    212.00250.00
  • Kavita Ke Aangan Mein By Ashok Vajpeyi

    Kavita Ke Aangan Mein By Ashok Vajpeyi
    ‘कविता के आँगन में’ – अशोक वाजपेयी

    ‘कविता के आँगन में’ एक सजग बौद्धिक और संवेदनशील सामाजिक का संवाद है। अशोक वाजपेयी की आलोचना की यह आठवीं पुस्तक है और इस अर्थ में विशिष्ट हो सकती है कि वह ‘इस समय और समाज में कविता की जगह खोजने-बनाने, उसे भरसक बढ़ाने की’ कोशिश का परिणाम है।

    525.00
  • Ashok Vajpayee Books Combo

    Ashok Vajpayee Books Combo

    119.001,190.00