Hindi Bhasha Aur Sansar – Udayan Vajpeyi

140.00

Hindi Bhasha Aur Sansar – Udayan Vajpeyi

हिंदी भाषा और संसार – उदयन वाजपेयी

अशोक वाजपेयी ऐसे ही लेखक हैं जिन्होंने स्वयम को हिंदी भाषा की संस्कृति से एकाकार किया हुआ है। इस पुस्तक में प्रकाशित उनसे लंबा संवाद हिंदी भाषा और और संस्कृति पर किया गया है।

In stock

Wishlist

अशोक वाजपेयी ऐसे ही लेखक हैं जिन्होंने स्वयम को हिंदी भाषा की संस्कृति से एकाकार किया हुआ है। इस पुस्तक में प्रकाशित उनसे लंबा संवाद हिंदी भाषा और और संस्कृति पर किया गया है। इस पुस्तक के दूसरे भाग में अशोक वाजपेयी के कृतित्व पर कुछ निबन्ध हैं, उनमें से एक संस्मरण है।

About the Author:

जन्म: 4 जनवरी, 1960, सागर, मध्य प्रदेश। प्रकाशित पुस्तकें : कुछ वाक्य, पागल गणितज्ञ की कविताएँ, केवल कुछ वाक्य (कविता-संग्रह), सुदेशना, दूर देश की गन्ध, सातवा बटन, घुड़सवार, रेत किनारे का घर (कहानी-संग्रह) चरखे पर बढ़त, जनगढ़ क़लम, पतझर के पाँव की मेंहदी (निबन्ध-संग्रह और यात्रा-वृत्तान्त), संवाद-पुस्तकें-अभेद आकाश (फ़िल्मकार मणि कौल), मति, स्मृति और प्रज्ञा (इतिहासकार धर्मपाल), उपन्यासकार का सफ़रनामा (शम्सुर्रहमान फ़ारूक़ी), विचरण (दार्शनिक नवज्योति सिंह), कवि का मार्ग (कवि कमलेश), भव्यता का रंगकर्म (रंगनिदेशक रतन थियाम), प्रवास और प्रवास (उपन्यासकार कृष्ण बलदेव वैद), सिनेमा और संसार (फ़िल्मकार कुमार शहानी), हिन्दी भाषा और संसार (कवि अशोक वाजपेयी), ‘दस्तकें’ इनकी रचनाओं का संचयन।

SKU: hindi-bhasha-aur-sansar-udayan-vajpeyi
Category:
ISBN

9789389830750

Author

Udayan Vajpeyi

Binding

Paperback

Pages

120

Publication date

01-01-2021

Publisher

Setu Prakashan Samuh

Imprint

Setu Prakashan

Language

Hindi

Customer Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Hindi Bhasha Aur Sansar – Udayan Vajpeyi”