Bhartiya Rajneeti Aur Mera Jeevan – Mohsina-kidwai (Hardcover)

720.00900.00

In stock

Wishlist

भारतीय राजनीति और मेरा जीवन – मोहसिना क़िदवाई, रशीद किदवाई , अनुवाद : जावेद आलम

मोहसिना क़िदवाई भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस के आला नेताओं में शुमार हैं। उत्तर प्रदेश के बाराबंकी से ताल्लुक रखने वाली मोहसिना किदवाई पार्टी के भीतर भी कई संगठनात्मक पदों पर रहीं और सरकार के भीतर भी । जहाँ पार्टी में उन्होंने राष्ट्रीय महासचिव और काँग्रेस कार्यसमिति की सदस्य जैसी अहम भूमिकाओं का निर्वाह किया, वहीं उत्तर प्रदेश और केन्द्र में कई बार मन्त्री रहीं। केन्द्र में वह इन्दिरा गांधी की सरकार में मन्त्री रहीं, फिर राजीव गांधी की सरकार में भी और इस दौरान उन्होंने शहरी विकास, परिवहन, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण तथा ग्रामीण विकास जैसे मन्त्रालयों को सँभाला। संयुक्त राष्ट्र महासभा में भारतीय प्रतिनिधि मण्डल का नेतृत्व किया। मोहसिना जी खासी लोकप्रिय भी रही हैं, उत्तर प्रदेश विधानसभा तथा लोकसभा के लिए वह कई बार चुनी गयीं। वह राज्यसभा की भी सदस्य रही हैं। संवैधानिक मूल्यों में आस्था, सार्वजनिक जीवन में शुचिता, निर्भीकता और जीवट जैसउनके गुणों की बदौलत वे हमेशा एक समादृत राजनेता रही हैं।

 

SKU: Bhartiya Rajneeti Aur Mera Jeevan -Hardcover
Categories:,
Tags:, , ,
Binding

Hardcover

ISBN

9788119127856

Language

Hindi

Pages

318

Publisher

Setu Prakashan Samuh

Publication date

07-11-2023

Writer

MOHSINA KIDWAI

Translation

Javed Alam

Customer Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Bhartiya Rajneeti Aur Mera Jeevan – Mohsina-kidwai (Hardcover)”

You may also like…

  • Qaul-E-Faisal – Maulana Abul Kalam Azad (Paperback)

    Qaul-E-Faisal – Maulana Abul Kalam Azad, Translation Mohammad Naushad

    क़ौल -ए- फ़ैसल -मौलाना अबुल कलाम आज़ाद

    स्वतंत्रता आन्दोलन के दौरान मौलाना आज़ाद के ऊपर 1920 में राजद्रोह का मुक़दमा चलाया गया था, जिसके जवाब में उन्होंने कोर्ट में तहरीरी बयान दिया था, जो उर्दू भाषा में क़ौल-ए-फ़ैसल नाम से प्रकाशित हुआ। आज के समय में देशद्रोह, राष्ट्रवाद जैसे बेहद ज्वलंत मुद्दों के सन्दर्भ में यह बेहद प्रासंगिक है।

    260.00325.00
  • Buy Aks by Akhilesh

    Aks by Akhilesh

    339.00399.00

    Aks by Akhilesh

    अक्स के संस्मरणों के चरित्र, अखिलेश की जीवनकथा में घुल-मिलकर उजागर होते हैं। अखिलेश का कथाकार इन स्मृति लेखों में मेरे विचार से नयी ऊँचाई पाता है। उनके गद्य में, उनके इन संस्मरणात्मक लेखन के वाक्य में अवधी की रचनात्मकता का जादू भरा है। -विश्वनाथ त्रिपाठी

    339.00399.00
  • Kaal Ke Kapal Par Hastakshar : Harishankar Parsai Ki Pramanik Jeevani

    इस जीवनी में परसाई के अलक्षित जीवन प्रसंगों को पढ़ना रोमांचकारी है। इसमें लक्षित परसाई से कहीं अधिक अलक्षित परसाई हैं जिन्हें जाने बिना वह चरितव्य समझ नहीं आएगा, जो परसाई के मनुष्य और लेखक को एपिकल बनाता है। जीवनी जीवन चरित है। ये गद्य और पद्य दोनों में लिखी गयी हैं। संस्कृत, प्राकृत और अपभ्रंश में जीवनी

    532.00625.00