Menu Close

Shop

Sale!

Setu 5 Books Combo

Original price was: ₹1,420.00.Current price is: ₹1,065.00.

 

  • Lokayan Ki Samajikta By Dhananjay Singh Rs.325.00
  • Chinhat 1857 : Sangharsh Ki Gourav Gatha – Rajgopal Singh Verma Rs.325.00
  • Dharma, Sanskriti Aur Rajneeti By Shashank Chaturvedi Rs.245.00
  • SCINDIA AUR 1857 By Dr. Rakesh Pathak Rs.300.00
  • Panchbhoot : Ek Sanskritik-shaikshanik Vimarsh – Devnath Pathak Rs.225.00

In stock

Wishlist
SKU: Setu 5 Books Combo Category:

Description

Setu 5 Books Combo with Flat 25% Discount.

Additional information

Binding

Paperback

Publisher

Setu Prakashan Samuh

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Setu 5 Books Combo”

You may also like…

  • Ambedkar Dalit Aur Stri Prashan By Ram Puniyani And RavikantAmbedkar Dalit Aur Stri Prashan By Ram Puniyani And Ravikant

    Original price was: ₹425.00.Current price is: ₹361.00.

    Ambedkar Dalit Aur Stri Prashan By Ram Puniyani And Ravikant साम्प्रदायिकता वह राजनीति है जो धर्म के नाम पर चलायी जाती है। दूसरे शब्दों में, साम्प्रदायिकता, धार्मिक पहचान के आधार पर राजनीतिक समर्थन जुटाती है। यद्यपि ऊपर से देखने से ऐसा लगता है कि यह धर्म आधारित राष्ट्रवादी संघर्ष है तथापि यथार्थ में साम्प्रदायिकता वह […]

  • Andolanjivi By Vinod AgnihotriAndolanjivi By Vinod Agnihotri

    Original price was: ₹499.00.Current price is: ₹424.00.

    विनोद अग्निहोत्री जी को मैं पिछले चार दशकों से जानता हूँ। वे एक गम्भीर और संवेदनशील पत्रकार हैं। उन्होंने देश के सामाजिक बदलावों और जन-आन्दोलनों का सूक्ष्म अध्ययन किया है और उनके बारे में लगातार लिखा है। किसी भी लोकतन्त्र की सुदृढ़ता और गतिशीलता के लिए सामाजिक सरोकारों के मुद्दों पर आम जनता की भागीदारी तथा एकजुट होकर संवैधानिक तरीके से अपनी माँगें उठाते रहना जरूरी होता है। यह पुस्तक इन प्रक्रियाओं का एक महत्त्वपूर्ण दस्तावेज है जो सत्ता प्रतिष्ठानों के लिए आईना और युवा पीढ़ी में अन्याय के खिलाफ चुप्पी तोड़कर सत्य और न्याय के लिए अहिंसात्मक तरीके अपनाने की प्रेरणा देगा।

    – कैलाश सत्यार्थी नोबेल पुरस्कार विजेता
    Kindle E-Book Also Available

    Available on Amazon Kindle

    Buy This Book Instantly thru RazorPay (20% + 5% extra discount)

    Or use Add to cart button to use our shopping cart

  • Shriramakrishna Paramhansa Edited By Awadhesh PradhanShriramakrishna Paramhansa Edited By Awadhesh Pradhan

    Original price was: ₹350.00.Current price is: ₹298.00.

    “कछुआ रहता तो पानी में है, पर उसका मन रहता है किनारे पर जहाँ उसके अण्डे रखे हैं। संसार का काम करो, पर मन रखो ईश्वर में।”

    “बिना भगवद्-भक्ति पाये यदि संसार में रहोगे तो दिनोदिन उलझनों में फँसते जाओगे और यहाँ तक फँस जाओगे कि फिर पिण्ड छुड़ाना कठिन होगा। रोग, शोक, तापादि से अधीर हो जाओगे। विषय-चिन्तन जितना ही करोगे, आसक्ति भी उतनी ही अधिक बढ़ेगी।”
    “संसार जल है और मन मानो दूध । यदि पानी में डाल दोगे तो दूध पानी में मिल जाएगा, पर उसी दूध का निर्जन में मक्खन बनाकर यदि पानी में छोड़ोगे तो मक्खन पानी में उतराता रहेगा। इस प्रकार निर्जन में साधना द्वारा ज्ञान-भक्ति प्राप्त करके यदि संसार में रहोगे भी तो संसार से निर्लिप्त रहोगे।”
    – इसी पुस्तक से
  • Jansankhya Ka Mithak By S.Y. Quraishi (Paperback)

    Original price was: ₹399.00.Current price is: ₹339.00.

    Jansankhya Ka Mithak By S.Y. Quraishi

    प्रस्तुत पुस्तक एस.वाई. कुरैशी की चर्चित किताब `The Population Myth` का हिंदी अनुवाद है। जनसंख्या राजनीति के अधिकारी विद्वान एस.वाई. कुरैशी की किताब `जनसंख्या का मिथक` जनसंख्या के आँकड़ों को तोड़-मरोड़कर पेश करने की दक्षिणपन्थी चालबाजी का पर्दा फाश करती है; इस कुचक्र के चलते ही बहुसंख्यकों में जनसांख्यिकी संरचना और

Jinna - Hindi