Showing 13–24 of 45 results

  • Ansari Ki Maut Ki Ajeeb Dastan By Anjali Deshpande (Paperback)

    Ansari Ki Maut Ki Ajeeb Dastan By Anjali Deshpande

    समय और काल के गहरे बोध से निर्मित अंजली देशपांडे की कहानियाँ गहरे द्वैत से निर्मित हैं। यह समय और काल हमें मशीन बना रहा है या हम मशीन बन कर समय और काल को ज्यादा विकृत कर रहे हैं।

    220.00
  • Ankaha Aakhyan By Jaya Jadwani

    संग्रह की कहानियाँ मध्य वर्ग में स्त्री जीवन की नियति और त्रासदी को अपना विषय बनाती हैं। खासतौर से वैवाहिक जीवन के भीतर स्त्री जीवन को। वैसे तो पूरे समाज और सभ्यता में वैवाहिक जीवन में स्त्रियों का जीवन ज्यादा संघर्षपूर्ण, त्रासद और विडंबनात्मक होता है। परंतु मध्यवर्गीय स्त्रियाँ इस त्रासदी को ज्यादा भोगती हैं

    170.00
  • Prarthana Samay By Pradeep Jilwane (Paperback)

    Prarthana Samay By Pradeep Jilwane

    सबसे पहले शीर्षक कहानी ‘प्रार्थना समय’ पर बात लाजिमी लगती है, एक मुलायम रेशमी धागों से बुनती हुई यह कहानी आगे बढ़ती है कि एक अचानक एक चिंगारी उड़ती हुई आती है, कहानी के नायक के हाथ दुआ में उठे हैं कि काश चिंगारी इन रेशमी धागों तक न पहुंचे, कितनी जल्दी आग पकड़ लेते हैं न ये! कितनी जल्दी बदल जाती है यह दुनिया या कोई बुरी ताकत है, जो लगातार सक्रिय है इस दुनिया को खराब दुनिया में तब्दील करने में… आदमजात की हत्या करने में।

    148.00
  • Dhela Aur Anya Kahaniyan By Aanand Bahadur (Paperback)

    Dhela Aur Anya Kahaniyan By Aanand Bahadur

    अपने सत्य और संवेदना का निर्वहन करती कथा-साहित्य के महासमुद्र में अपना वजूद तलाशती कथाकार आनंद बहादुर की दस कहानियाँ किसी भी तरह के आरोपण और कृत्रिमता से परे जीवन की नैसर्गिकता की ओर लौटने की कहानियाँ हैं।

    140.00
  • Maa, March Aur Mrityu By Sharmila Jalan (Paperback)

    Maa, March Aur Mrityu By Sharmila Jalan

    “यहाँ मैं यह भी याद करता हूँ कि इन कहानियों के लेखक की मानसिकता संकीर्ण, अपाहिज और विभाजित नहीं है और वे औसत से औसत अनुभव को एक अलग रोशनी में, अपनी निगाहों से खुले हुए मन और मस्तिष्क से बिना किसी पूर्वग्रह से देखने के लिए प्रयत्नशील बनी रहती है।

    175.00
  • Prarthana Samay By Pradeep Jilwane

    Prarthana Samay By Pradeep Jilwane

    सबसे पहले शीर्षक कहानी ‘प्रार्थना समय’ पर बात लाजिमी लगती है, एक मुलायम रेशमी धागों से बुनती हुई यह कहानी आगे बढ़ती है कि एक अचानक एक चिंगारी उड़ती हुई आती है, कहानी के नायक के हाथ दुआ में उठे हैं कि काश चिंगारी इन रेशमी धागों तक न पहुंचे, कितनी जल्दी आग पकड़ लेते हैं न ये! कितनी जल्दी बदल जाती है यह दुनिया या कोई बुरी ताकत है, जो लगातार सक्रिय है इस दुनिया को खराब दुनिया में तब्दील करने में… आदमजात की हत्या करने में।

    295.00
  • Ansari Ki Maut Ki Ajeeb Dastan By Anjali Deshpande

    Ansari Ki Maut Ki Ajeeb Dastan By Anjali Deshpande

    समय और काल के गहरे बोध से निर्मित अंजली देशपांडे की कहानियाँ गहरे द्वैत से निर्मित हैं। यह समय और काल हमें मशीन बना रहा है या हम मशीन बन कर समय और काल को ज्यादा विकृत कर रहे हैं।

    465.00
  • Dhela Aur Anya Kahaniyan By Aanand Bahadur

    Dhela Aur Anya Kahaniyan By Aanand Bahadur

    अपने सत्य और संवेदना का निर्वहन करती कथा-साहित्य के महासमुद्र में अपना वजूद तलाशती कथाकार आनंद बहादुर की दस कहानियाँ किसी भी तरह के आरोपण और कृत्रिमता से परे जीवन की नैसर्गिकता की ओर लौटने की कहानियाँ हैं।

    320.00
  • Kavita Painting Ped Kuch Nahi – Kailash Banvasi (Paperback)

    Kavita Painting Ped Kuch Nahi – Kailash Banvasi
    कविता पेंटिंग पेड़ कुछ नहीं – कैलाश बनवासी

    कैलाश बनवासी एक अत्यंत मूल्यवान गठरी पर बैठे हैं। छत्तीसगढ़, बस्तर, सरगुजा के अँधेरों में एक ऐसा मनुष्य करवट ले रहा है जिसका बीज मुक्तिबोध ने बोया था।

    200.00
  • Kavita Painting Ped Kuch Nahi – Kailash Banvasi

    Kavita Painting Ped Kuch Nahi – Kailash Banvasi
    कविता पेंटिंग पेड़ कुछ नहीं – कैलाश बनवासी

    कैलाश बनवासी एक अत्यंत मूल्यवान गठरी पर बैठे हैं। छत्तीसगढ़, बस्तर, सरगुजा के अँधेरों में एक ऐसा मनुष्य करवट ले रहा है जिसका बीज मुक्तिबोध ने बोया था।

    440.00
  • Maa, March Aur Mrityu By Sharmila Jalan

    Maa, March Aur Mrityu By Sharmila Jalan

    360.00
  • Tark ke khunte se… By Jayant Pawar

    Tark ke khunte se… By Jayant Pawar

    560.00699.00