Showing all 11 results

  • Matibhram By Raju Sharma – HardCover

    “‘मतिभ्रम’ एक ऐसा उपन्यास है, जिसे राजू शर्मा ने अपने रचनात्मक धीरज से सम्भव बनाया है। यह रचनात्मक धीरज भी इकहरा नहीं है, इसकी बहुस्तरीयता का आधार जीवन से गहरी आसक्ति और गम्भीर राजनीतिक समझ है। जीवन से आसक्ति और गहरी राजनीतिक समझ से निर्मित संवेदनात्मक संरचनाएँ घटनाओं को उन क्षितिजों तक पहुँचाती हैं, जहाँ तक अमूमन कथा विन्यास में उनका विन्यस्त हो पाना दुरूह होता है…”

    1,014.001,449.00
  • Matibhram By Raju Sharma

    “‘मतिभ्रम’ एक ऐसा उपन्यास है, जिसे राजू शर्मा ने अपने रचनात्मक धीरज से सम्भव बनाया है। यह रचनात्मक धीरज भी इकहरा नहीं है, इसकी बहुस्तरीयता का आधार जीवन से गहरी आसक्ति और गम्भीर राजनीतिक समझ है। जीवन से आसक्ति और गहरी राजनीतिक समझ से निर्मित संवेदनात्मक संरचनाएँ घटनाओं को उन क्षितिजों तक पहुँचाती हैं, जहाँ तक अमूमन कथा विन्यास में उनका विन्यस्त हो पाना दुरूह होता है…”

    510.00600.00
  • O Ri Kathputli By Anju Sharma (Hardcover)

    O Ri Kathputli – Anju Sharma
    ओ री कठपुतली – अंजू शर्मा

    ओ री कठपुतली अंजू शर्मा द्वारा लिखित उपन्यास है।

    580.00725.00
  • Kayantaran – Franj Kafka Translation By Raju Sharma

    Kayantaran – Franj Kafka Trans. By Raju Sharma

    कायान्तरण – फ्रांज काफ्का

    कायान्तरण मेटामॉरफॉसिस, द ट्रायल, द कैसल कापका की सुप्रसिद्ध कथा रचनाएँ हैं, ये बीसवीं सदी की श्रेष्ठतम कृतियों में गिनी जाती हैं।

    134.00149.00
  • E Mere Vatan – Raju Sharma

    E Mere Vatan – Raju Sharma

    ऐ मेरे वतन एक और बहुस्तरीय उपन्यास है। राजू शर्मा के इस उपन्यास में वर्णित यथार्थ का फलक भी बड़ा है। किस्सागोई भी खूब है और इसकी भाषा रूढ़िमुक्त है, लेकिन इसके पीछे प्रयोजन जी बहलाव वाली पठनीयता पैदा करना नहीं बल्कि हमारे देश तथा समाज की दिनोदिन और भयावह होती जाती स्थितियों को

    616.00725.00
  • Notice 2 By Raju Sharma (Paperback)

    ‘नोटिस-2’ राजू शर्मा जीवन से गहरी आसक्ति और गम्भीर राजनीतिक समझ से निॢमत हैं,जीवन की डिटेलिंग इस आसक्ति और समझ को ऊध्र्व और ऊर्जावान बनाती है

    399.00
  • Vyabhichari By Raju Sharma (Paperback)

    ‘व्यभिचारी’ फुललेन्थ नॉवेल तो नहीं हैं, न लम्बी कहानी ही हैं। अपनी सुविधा केलिए हम इन्हें उपन्यासिका कह रहे हैं। पर इन दो पुस्तकों में समाहित पाँच रचनाएँ विधा की संरचनाओं के सन्दर्भ में हमें भ्रमित करती हैं।

    339.00399.00
  • Katl Gair Iradatan By Raju Sharma (Paperback)

    Katl Gair IradatanBy Raju Sharma

    क़त्ल गैर इरादतन’ राजू शर्मा का चौथा उपन्यास है। यह क़त्ल गैर इरादतन है। किसकी? ज़ारा अफ़रोज़ की-पर इस हत्या के संदर्भ में नैरेटर कहता है कि इसके बाद ज़ारा अफ़रोज़ हत्या केस में क्या हुआ—वह इस कथा का विषय नहीं है और भौतिक रूप में हत्या भी एक यही हुई है किंतु वास्तव में यहाँ हत्या की श्रृंखलाएँ हैं।

    280.00330.00
  • Katl Gair Iradtan By Raju Sharma

    Katl Gair Iradtan By Raju Sharma

    क़त्ल गैर इरादतन’ राजू शर्मा का चौथा उपन्यास है। यह क़त्ल गैर इरादतन है। किसकी? ज़ारा अफ़रोज़ की-पर इस हत्या के संदर्भ में नैरेटर कहता है कि इसके बाद ज़ारा अफ़रोज़ हत्या केस में क्या हुआ—वह इस कथा का विषय नहीं है और भौतिक रूप में हत्या भी एक यही हुई है किंतु वास्तव में यहाँ हत्या की श्रृंखलाएँ हैं।

    660.00825.00
  • Vyabhichari By Raju Sharma

    ‘व्यभिचारी’ फुललेन्थ नॉवेल तो नहीं हैं, न लम्बी कहानी ही हैं। अपनी सुविधा केलिए हम इन्हें उपन्यासिका कह रहे हैं। पर इन दो पुस्तकों में समाहित पाँच रचनाएँ विधा की संरचनाओं के सन्दर्भ में हमें भ्रमित करती हैं।

    764.00899.00
  • Notice 2 By Raju Sharma

    ‘नोटिस-2’ राजू शर्मा जीवन से गहरी आसक्ति और गम्भीर राजनीतिक समझ से निॢमत हैं,जीवन की डिटेलिंग इस आसक्ति और समझ को ऊध्र्व और ऊर्जावान बनाती है

    764.00899.00