Vaasavdutta (Novel) By Mahendra Madhukar

319.00375.00

प्रसिद्ध कवि, कथाकार और आलोचक डॉ. महेंद्र मधुकर का प्रस्तुत उपन्यास ‘वासवदत्ता’ राजा उदयन और राजकुमारी वासवदत्ता की ऐतिहासिक प्रेम-गाथा है, जो ढाई हजार वर्षों से भी अधिक समय से लोक कण्ठों में गूँजती रही है। कालिदास के भी पूर्व नाटककार भास ने ‘स्वप्न वासवदत्ता’ और ‘प्रतिज्ञा यौगन्धरायण’ जैसे नाटकों में इस प्रेम-गाथा का ताना- बाना रचा है। कवि कालिदास ने अपने ‘मेघदूत’ के तीसवें श्लोक में उदयन के प्रेम की मधुर कथा की चर्चा की है।

वास्तव में प्रेम एक अशब्द अनुभव है, जो पुरुष या स्त्री के मन में समान रूप से पल्लवित होता है। स्त्री राजनीति या साम्राज्यवाद का मोहरा नहीं बल्कि यज्ञ की अग्नि की तरह धधक उठने वाली ज्वाला है। उदयन वीर और रोमाण्टिक नायक के रूप में अपनी घोषवती वीणा के साथ प्रस्तुत होते हैं और कला ही प्रेम का सूत्रपात करती है। यहाँ प्रेम है तो पीड़ा है और इस पीड़ा में अद्भुत आनन्द का अनुभव होता है।
महेंद्र मधुकर का यह उपन्यास आपकी अन्तरात्मा को द्रवित करेगा और इस उपन्यास की भाषा का प्रवाह आपको अपने साथ दूर तक बहा ले जाएगा।

Buy This Book with 1 Click Via RazorPay (15% + 5% discount Included)

In stock

Wishlist

Vaasavdutta (Novel) By Mahendra Madhukar

SKU: Vaasavdutta (Novel) Paperback
Category:
Author

Mahendra Madhukar

Binding

Paperback

Language

Hindi

ISBN

9788197018152

Pages

288

Publisher

Setu Prakashan Samuh

Publication date

10-02-2024

Customer Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Vaasavdutta (Novel) By Mahendra Madhukar”

You may also like…

  • Fakira By Anna Bhau Sathe

    फकीरा’ उपन्यास अण्णा भाऊ साठे का मास्टरपीस उपन्यास माना जाता है। यह 1959 में प्रकाशित हुआ तथा इसे 1961 में राज्य शासन का सर्वोत्कृष्ट उपन्यास पुरस्कार प्रदान किया गया। इस उपन्यास पर फ़िल्म भी बनी। ‘फकीरा’ एक ऐसे नायक पर केन्द्रित उपन्यास है, जो अपने ग्राम-समाज को भुखमरी से बचाता है, अन्धविश्वास और रूढ़िवाद से मुक्ति का पुरजोर प्रयत्न करता है तथा ब्रिटिश शासन के विरुद्ध विद्रोह करता है। एक दलित जाति के नायक का बहुत खुली मानवीय दृष्टि रखना, ब्रिटिश शासन द्वारा थोपे गये अपराधी जाति के ठप्पे से जुड़ी तमाम यन्त्रणाओं का पुरजोर विरोध करना, अपने आसपास के लोगों को अन्धविश्वास के जाल से निकालने की जद्दोजहद करना तथा बहुत साहस और निर्भयता के साथ अनेक प्रतिमान स्थापित करना ‘फकीरा’ की विशेषता है। उपन्यास का नायक ‘फकीरा’ एक नायक मात्र नहीं है, विषमतामूलक समाज के प्रति असहमति का बुलन्द हस्ताक्षर है।

    254.00299.00
  • Baraf Mahal Translated by Neelakshi Singh

    वह एक सम्मोहक महल था। उसमें प्रवेश करने का रास्ता जल्द खोज लेना था। वह भूलभुलैया, उत्कण्ठा जगाने वाले रास्तों और विशाल दरवाजों से भरा होने वाला था और उसे उसमें दाखिले का रास्ता खोजकर ही दम लेना था। यह कितनी अजीब बात थी कि उसके सामने आते ही उन्न बाकी का सबकुछ बिल्कुल ही बिसरा चुकी थी। उस महल के भीतर समा जाने की इच्छा के सिवा हर दूसरी चीज का अस्तित्व उसके लिए समाप्त हो चुका था। आह। पर क्या वह सब इतना आसान था ! कितनी तो जगहें थीं, जो दूर से अब खुलीं कि तब खुलीं दिखती थीं, पर जैसे ही उन्न वहाँ पहुँचती, वे धोखा देने पर उतर आतीं। पर वह भी कहाँ हार मानने वाली थी !

    Buy This Book with 1 Click Via RazorPay (15% + 5% discount Included)

    238.00280.00
  • Kit Kit By Anu Shakti Singh

    मन की नदियों, हवाओं, चुप्पियों, कथाओं को रचना
    में रूप देने के लिए रियाज़ के साथ आत्मसंयम व
    कलात्मक अभिव्यक्ति का सन्तुलन वांछित होता है,
    तब एक रचना अपना प्रसव ग्रहण करने को उन्मुख
    होती है। जो कलाकार इस गहरे बोध से परिचित होते हैं
    वे गति से अधिक लय को भाषा में समाने का इन्तज़ार
    करते उसे अपना रूप लेने देते हैं। लय, जो अपनी
    लयहीनता में बेहद गहरे और अकथनीय अनुभव ग्रहण
    करती है उसे भाषा में उतार पाना ही कलाकार की
    असल सिद्धि है। अणु शक्ति ने अपने इस नॉवल में
    टीस की वह शहतीर उतरने दी है। यह उनके कथाकार
    की सार्थकता है कि नॉवल में तीन पात्रों की घुलनशील
    नियति के भीतर की कशमकश को उन्होंने दृश्य बन
    कहन होने दिया है। स्त्री, पर-स्त्री, पुरुष, पर-पुरुष,
    इनको हर बार कला में अपना बीहड़ जीते व्यक्त करने
    का प्रयास होता रहा। हर बार रचना में कुछ अनकही
    अनसुनी कतरनें छितराती रही हैं। वहाँ प्रेम और
    अकेलापन अपने रसायन में कभी उमड़ते हैं कभी
    घुमड़कर अपनी ठण्ड में किसी अन्त में चुप समा जाते
    हैं। अणु शक्ति इन मन:स्थितियों को बेहद कुशलता से
    भाषा में उतरने देती हैं व अपनी पकड़ को भी अदृश्य
    रखने में निष्णात साबित हुई हैं।

    Buy This Book Instantly thru RazorPay
    (15% + 5% Extra Discount Included)

    212.00249.00
  • Aangan By Khadeeja Mastoor

    उर्दू के प्रसिद्ध आलोचक उस्लूब अहमद अंसारी इस उपन्यास की गिनती उर्दू के 15
    श्रेष्ठ उपन्यासों में करते हैं जबकि शम्सुर्रहमान फ़ारूक़ी का कहना है कि इस नॉवेल
    पर अब तक जितनी तवज्जो दी गयी है वो इससे ज्यादा का मुस्तहिक़ है। भारत
    विभाजन के विषय पर यह बहुत ही सन्तुलित उपन्यास अपनी मिसाल आप है।

    276.00325.00