RACHANA PRAKRIYA KE PADAV (Thought on Theatre Work) by Devendra Raj Ankur

424.00499.00

रचना प्रक्रिया के पड़ाव – देवेन्द्र राज अंकुर

Rachna Prakriya Ke Padav (Thought on Theatre Work) By Devendra Raj Ankur

‘रचना प्रक्रिया के पड़ाव’ प्रसिद्ध रंगकर्मी और विद्वान् श्री देवेन्द्र राज अंकुर की नव्यतम पुस्तक है। रंगमंच को मुख्यतः और प्राथमिक रूप से नाटकों के मंचन से सन्दर्भित माना गया है। नाटकों और एकांकियों की सफलता का एक आधार उनके मंचन की अनुकूलता भी है। इसके अतिरिक्त महाकाव्यों के मंचन की भी सुदीर्घ और समृद्ध परम्परा भारत में रही है। परन्तु प्रस्तुत पुस्तक का सन्दर्भ कहानी के रंगमंच से है। ‘कहानी का रंगमंच’ नामक पुस्तक इस सन्दर्भ की पहली व्यवस्थित पुस्तक थी जिसका सम्पादन महेश आनन्द ने किया था। इसके बावजूद यह पुस्तक उस पुस्तक से कई मायनों में विशिष्ट है। पहली तो यह एक लेखक द्वारा रचित है। दूसरे इसको पहली पुस्तक से लगभग 50 वर्ष बाद लिखा गया है। तो इस लम्बी समयावधि में रंगमंच, ज्ञान-सरणी और कहानी विधा में जो विस्तार हुआ, उसे पुस्तक समेटती है।

प्रस्तुत पुस्तक को छह हिस्सों में बाँटा गया है- प्रस्तुति, विचार, प्रक्रिया, संवाद, दृश्यालेख और कथासूची। यह बँटवारा अध्ययन की सुविधा के लिए तो है ही, साथ ही यह रचनाकार की उस दृष्टि का महत्तम समापवर्तक भी है जिससे वह चीजों को देखता- जाँचता है।
इस पुस्तक से रंगमंच के दर्शन का ज्ञान तो होगा ही साथ ही ‘छात्रों, शोधार्थियों और रंगकर्मियों के लिए एक ही दिशा में किये गये काम कहानी का रंगमंच से सम्बद्ध लगभग सारी जानकारियाँ’ भी मुहैया हो सकेंगी। ऐसा हमें विश्वास है।
Buy with 1 Click Using this Razorpay Gateway Button

 

In stock

You may also like…

  • Strigatha By Prem Ranjan Animesh

    स्त्रीगाथा (उपन्यास) – प्रेम रंजन अनिमेष

    उनकी नयी कृति स्त्रीगाथा, दो हिस्सों में विभाजित, यह उपन्यास, जैसा कि नाम से जाहिर है, स्त्री की व्यथा-कथा और उसके आत्म-सम्मान तथा स्वतन्त्र अस्मिता के उसके संघर्ष की एक दास्तान कहता है, यों तो ऐसी रचनाओं की कमी नहीं, जो स्त्री की वेदना से बुनी हुई हैं, उसकी पीड़ा और उसके संघर्ष को शब्द देती हैं, स्त्री की पक्षधरता में मुखर हैं और इस तरह स्त्री विमर्श का एक आख्यान रचती हैं।
    प्रेम रंजन अनिमेष का यह उपन्यास स्त्री विमर्श का पात्र होते हुए भी, ऐसी बहुत सी रचनाओं से थोड़ा अलग हटकर, और विशिष्ट है। इसमें रचनाशीलता की कीमत पर विमर्श का मोह नहीं पाला गया है। और यही वजह है कि इस उपन्यास की कथाशीलता कहीं भी क्षतिग्रस्त नहीं होती।
    इसका यह अर्थ नहीं कि इसमें विचार हाशिये पर या नेपथ्य में है। सच यह है कि यह उपन्यास सरोकार को अनुस्यूत करते हुए उसे बल प्रदान करने का एक उत्कृष्ट उदाहरण है

    इस पुस्तक को आप १ क्लिक ऑर्डर बटन से भी ख़रीद सकते हैं
    339.00399.00
  • Aangan By Khadeeja Mastoor

    आँगन – खदीजा मस्तूर – हिंदी अनुवाद खुर्शीद आलम

    उर्दू के प्रसिद्ध आलोचक उस्लूब अहमद अंसारी इस उपन्यास की गिनती उर्दू के 15
    श्रेष्ठ उपन्यासों में करते हैं जबकि शम्सुर्रहमान फ़ारूक़ी का कहना है कि इस नॉवेल
    पर अब तक जितनी तवज्जो दी गयी है वो इससे ज्यादा का मुस्तहिक़ है। भारत
    विभाजन के विषय पर यह बहुत ही सन्तुलित उपन्यास अपनी मिसाल आप है।

    276.00325.00
  • Chauboli By Swayam Prakash (Paperback)

    Chauboli By Swayam Prakash

    130.00
  • Fakira By Anna Bhau Sathe

    फकीरा’ उपन्यास अण्णा भाऊ साठे का मास्टरपीस उपन्यास माना जाता है। यह 1959 में प्रकाशित हुआ तथा इसे 1961 में राज्य शासन का सर्वोत्कृष्ट उपन्यास पुरस्कार प्रदान किया गया। इस उपन्यास पर फ़िल्म भी बनी। ‘फकीरा’ एक ऐसे नायक पर केन्द्रित उपन्यास है, जो अपने ग्राम-समाज को भुखमरी से बचाता है, अन्धविश्वास और रूढ़िवाद से मुक्ति का पुरजोर प्रयत्न करता है तथा ब्रिटिश शासन के विरुद्ध विद्रोह करता है। एक दलित जाति के नायक का बहुत खुली मानवीय दृष्टि रखना, ब्रिटिश शासन द्वारा थोपे गये अपराधी जाति के ठप्पे से जुड़ी तमाम यन्त्रणाओं का पुरजोर विरोध करना, अपने आसपास के लोगों को अन्धविश्वास के जाल से निकालने की जद्दोजहद करना तथा बहुत साहस और निर्भयता के साथ अनेक प्रतिमान स्थापित करना ‘फकीरा’ की विशेषता है। उपन्यास का नायक ‘फकीरा’ एक नायक मात्र नहीं है, विषमतामूलक समाज के प्रति असहमति का बुलन्द हस्ताक्षर है।

    Buy Instantly


    Kindle E-Book Also Available
    Available on Amazon Kindle

    254.00299.00