Showing 37–48 of 91 results

  • Bolo Na Darvesh By Smita Sinha

    Bolo Na Darvesh By Smita Sinha – Hardcover
    बोलो न दरवेश – स्मिता सिन्हा

    ‘बोलो न दरवेश’ कवयित्री स्मिता सिन्हा का पहला कविता संग्रह है जिसमें स्त्री अस्मिता के प्रश्नों के साथ समाज प्रकृति, पर्यावरण और प्रेम के विविध रंग उपस्थित हैं।

    340.00
  • Maine Apni Maa Ko Janm Diya Hai -Rashmi Bhardwaj

    Maine Apni Maa Ko Janm Diya Hai – Rashmi Bhardwaj
    मैंने अपनी मां को जन्म दिया है – रश्मि भारद्वाज

    जानी-मानी लेखिका रश्मि भारद्वाज के कविता संग्रह ‘मैंने अपनी मां को जन्म दिया है’ में जीवन के विविध पक्षों की छाप है। उनकी कविताएं दुख, मुक्ति और स्वाभिमान के मुद्दों के अतिरिक्त विस्थापन, पर्यावरण और सहकारिता के वृहत्तर प्रश्नों से भी टकराती हैं।

    238.00280.00
  • Marg Madarzaad By Piyush Daiya Paperback

    Marg Madarzaad By Piyush Daiya
    मार्ग मादरज़ाद – पीयूष दईया

    मार्ग मादरज़ाद-पीयूष दईया की आत्मा के दायरों में फिसलते मनुष्य की यात्रा का मार्ग है। यह मार्ग निर्विघ्न नहीं है क्योंकि इसमें ‘श्मशानी शऊर’ की ‘वर्णमाला’ सीखे लोगों की साँसें निर्बिम्ब’ हैं।

    120.00
  • Andhere Ki Pajeb By Nida Nawaz -Paperback

    Andhere Ki Pajeb By Nida Nawaz

    अँधेरे की पाज़ेब – निदा नवाज़
    निदा नवाज़ अपना अता-पता एक कविता में इस तरह देते हैं : ‘मैं उस स्वर्ग में रहता हूँ। जहाँ घरों से निकलना ही होता है/ गायब हो जाना/ जहाँ हर ऊँचा होता सर/ तानाशाहों के आदेश पर/ काट लिया जाता है और ‘जहाँ लोग जनसंहारों की गणना और कब्रों की संख्या भूल गये हैं’।

    137.00
  • Kshirsagar Main Nind – Shriprakash Shukla-Paperback

    Kshirsagar Main Nind – Shriprakash Shukla
    क्षीरसागर में नींद – श्रीप्रकाश शुक्ल

    बनारस…बनारस कई अर्थों और चेतनाओं के साथ भारतीय मनीषा का अभिन्न अंग रहा है। भारत, विशेष तौर से उत्तर भारत की परिपक्व मनीषा का अभिभाज्य अंग है बनारस। इसे प्रत्येक मानुष समझता है परंतु जब कोई सामाजिक बनारस में निरंतर रह रहा है, तो संवेदनशील सामाजिक की चेतना का बहुमुखी हो जाना स्वाभाविक बात है।

    112.00
  • Beech December By Shailey-Paperback

    Beech December By Shailey

    प्रकृति के साथ और सामंजस्य के बिना न जीवन संभव है और न जीवनानुभूतियों की अभिव्यक्ति। प्रकृति का संसर्ग हो तो सूर्य, चंद्रमा, चाँदनी, पेड़, पौधे, सावन, भादो, वसंत इत्यादि प्रकृति के तत्त्व जीवन-अंग के रूप में संचालित होने लगते हैं।

    125.00
  • Bhukhe Pet Kee Raat Lambi Hogi By Anil mishra

    Bhukhe Pet Kee Raat Lambi Hogi – Anil mishra
    ‘भूखे पेट की रात लंबी होगी’ – अनिल मिश्र

    भूखे पेट की रात लंबी होगी’, पर क्यों? यह जितना अभिधात्मक पदबंध है, उतना ही लाक्षणिक! अभिधात्मकता और लाक्षणिकता कविता की भवता की अनिवार्यता है।

    170.00
  • Kshirsagar Main Nind – Shriprakash Shukla

    Kshirsagar Main Nind – Shriprakash Shukla
    क्षीरसागर में नींद – श्रीप्रकाश शुक्ल

    230.00
  • Andhere Ki Pajeb By Nida Nawaz

    Andhere Ki Pajeb By Nida Nawaz

    अँधेरे की पाज़ेब – निदा नवाज़

    480.00600.00
  • Marg Madarzaad By Piyush Daiya

    Marg Madarzaad By Piyush Daiya
    मार्ग मादरज़ाद – पीयूष दईया

    मार्ग मादरज़ाद-पीयूष दईया की आत्मा के दायरों में फिसलते मनुष्य की यात्रा का मार्ग है। यह मार्ग निर्विघ्न नहीं है क्योंकि इसमें ‘श्मशानी शऊर’ की ‘वर्णमाला’ सीखे लोगों की साँसें निर्बिम्ब’ हैं।

    240.00
  • Pansokha Hai Indradhanush – Madan Kashyap

    Pansokha Hai Indradhanush – Madan Kashyap
    पनसोखा है इन्द्रधनुष – मदन कश्यप

    205.00
  • Ujaas – Jitendra Shrivastav

    Ujaas – Jitendra Shrivastav

    1990 के आसपास जिन कवियों ने लिखना आरंभ किया और साहित्य में अपने लिए एक अलग पहचान बनायी, उनमें जितेन्द्र श्रीवास्तव महत्त्वपूर्ण हैं। प्रस्तुत संग्रह ‘उजास’ उनके तीन पूर्ववर्ती संग्रहों का समुच्चय है। ये संग्रह हैं- ‘अनभै कथा’ (2003), ‘असुंदर सुंदर’ (2008) और ‘इन दिनों हालचाल’ (2000, 2011)।

    650.00